यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 29 सितंबर 2011

झील में उगता सूरज

हरित पलाश पुंज मिले मिले 
गुलाबी कमल दल खिले खिले !
झील के आँचल में थिरकन 
देखो शिकारे चले चले !
बकुल श्रंखला करती आहार 
डूब के जल में गले गले ! 
सिन्दूर साथ लिए आया दिवाकर 
झील की मांग भरे भरे !
शीतल मंद पवन संग मस्ती 
देवदार ,चिनार हिले हिले !
पंछियों के   कल कलरव 
लगते  करणों को भले भले !
परदेसी परिंदे दूर से आये 
देखो पर्यटन फूले फले !
पा के माँ की प्यारी झिडकी 
शिशु अलसाई आँखे मले मले!
देखो शिकारे चले  चले !  

33 टिप्‍पणियां:

  1. हरित पलाश पुंज मिले मिले
    गुलाबी कमल दल खिले खिले !
    झील के आँचल में थिरकन
    देखो शिकारे चले चले !... sundar drishya

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर चित्रण, मनोहारी कविता

    जवाब देंहटाएं
  3. अति सुन्दर मनोहारी झील में उगता सूरज ,,
    बहुत ही सुदर प्रस्तुति

    जवाब देंहटाएं
  4. लाजबाब मनमोहनी प्रस्तुति ||
    नवरात्रि की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    जवाब देंहटाएं
  5. अब आप यहाँ भी आ गये है सारे जहाँ मे छा गये है जानना है तो यहाँ देखिये……http://redrose-vandana.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  6. झील की सुन्दरता में चार चाँद लगाती रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  7. झील के आँचल में थिरकन
    देखो शिकारे चले चले !
    बकुल श्रंखला करती आहार
    डूब के जल में गले गले !
    सिन्दूर साथ लिए आया दिवाकर
    झील की मांग भरे भरे !
    bahut sunder kavita...laga ki kashmir pahuch gaye ....bhasha bhi sunder ....
    pehli baar apke blog par ayi ...achha laga...kya aap bhi mujhsae judna chahengi?

    जवाब देंहटाएं
  8. bahut komal kriti. madhur shabd...
    सिन्दूर साथ लिए आया दिवाकर
    झील की मांग भरे भरे !
    sudar rachna ke liye badhai.

    जवाब देंहटाएं
  9. इस कविता में प्रकृति चित्रण अनोखा है!

    जवाब देंहटाएं
  10. भावनाओं और प्रकृति का बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  11. भावनाओं और प्रकृति का बहुत सुंदर चित्रण . ...बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  12. सिन्दूर साथ लिए आया दिवाकर
    झील की मांग भरे भरे !

    सिंदूर, दिवाकर, झील... आपने इन शब्दों से एक सुनहरा दृश्य अंकित कर दिया है।

    जवाब देंहटाएं
  13. सुन्दर चित्र के साथ प्रभावी पंक्तियाँ.

    जवाब देंहटाएं
  14. सिन्दूर साथ लिए आया दिवाकर
    झील की मांग भरे भरे !
    bhut acha.

    जवाब देंहटाएं
  15. प्रकृति का बड़ा ही ख़ूबसूरत चित्रण !
    दुर्गा पूजा पर आपको ढेर सारी बधाइयाँ और शुभकामनायें !
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  16. हरित पलाश पुंज मिले मिले
    गुलाबी कमल दल खिले खिले !
    झील के आँचल में थिरकन ....bahut khoobsurt....aabhar

    जवाब देंहटाएं
  17. परदेसी परिंदे दूर से आये
    देखो पर्यटन फूले फले !
    पा के माँ की प्यारी झिडकी
    शिशु अलसाई आँखे मले मले!

    हृदय स्पर्शी भाव और भाषा.

    जवाब देंहटाएं
  18. खूबसूरत चित्रण.
    सुन्दर शब्द चयन.
    मन पुलकित हो गया पढ़कर.

    देर से आया हूँ .पर अब मिलता रहूँगा.

    जवाब देंहटाएं
  19. आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत खूब .....
    शुभकामनायें आपको !

    जवाब देंहटाएं