यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 5 सितंबर 2012

कैसे लिखी जाती है


कैसे लिखी जाती है
कविता मुझे पता नहीं 
बस भावनाओं के
 कुछ बादल जन्म लेते हैं
 दिल की सतह पर 
और वाष्पित होकर  
मस्तिष्क में पंहुच कर 
उमड़ पड़ते हैं 
और बूँद बूँद बरसते 
हैं शब्द बनकर ,घुल जाते हैं 
मेरी कलम की स्याही में 
और उतर आते हैं 
किसी सपाट पन्ने 
पर कविता बनकर
******

17 टिप्‍पणियां:

  1. aap ne kavita ko behad bhavanatmk aur smbednatmak tarike se pribhasit kr ek naya najria pradan kr dia,bahut accha laga

    उत्तर देंहटाएं
  2. याने एक रासायनिक और भौतिक प्रक्रिया है कविता का सृजन???
    :-)

    बढ़िया है!!
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. हा ऐसा ही होता है..
    बहुत बढ़िया
    मनोभावों को व्यक्त करती
    सुन्दर रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. उत्तर
    1. waah bahut khoob sach kaha aapne badalo ki jo varsha hoti hai wah shabdo ke roop me bah kar baahar aati hai :)) badhai

      हटाएं
  6. सुन्दर शब्दों से आपने सत्यता का वर्णन किया है |

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह तो हुई विरह की कविता ...और मिलन की .......

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया भाव मय प्रस्तुति,,,,बेहतरीन
    RECENT POST,तुम जो मुस्करा दो,

    उत्तर देंहटाएं
  9. lajbab prastuti ke liye sadar abhar Rajesh ji ,,,rachana behad prabhavshali lgi .

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपके हृदय के भाव समुन्द्र से निरंतर वाष्पीकरण होता रहे
    और अच्छी बारिस होती रहे,यही दुआ है जी.
    काश! ऐसी बाढ़ आये कि सभी उसमें डूब डूब जाएँ.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं