यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 20 सितंबर 2012

एक भैंस की तस्वीर ने ब्लोगर बना दिया


मेरी बुक ह्रदय के उद्दगार के विमोचन के समय मुझसे किसी ने सवाल किया था की आप ब्लोगर कैसे बनी उनको तो एक सीधा सरल सा जबाब दे दिया था कि नेट पर सर्च करते करते ब्लोगिंग का पता चला और ब्लॉग शुरू कर दिया पर वास्तविकता कुछ और है बहुत रोचक घटना है मेरी ब्लोगिंग के पीछे बहुत दिनों से आप सब से शेयर करना चाहती थी सो आज आज सोचा कुछ अलग लिखूं |
ब्लोगर से पहले मैं ओर्कुटर थी ऑरकुट एक फेस बुक की तरह की वेब साईट शायद अधिकतर लोग जानते होंगे ,खूब मजे से ओर्कुटियाते थे एक से बढ़कर एक चित्र चिपकाते थे ,लोग टिपियाते थे|एक बार मेरे एक ऑरकुट मित्र मुकन्दा/आक्रोशित मन (आजकल कवी विद्रोही रवि भी लिखते हैं)ने एक फोटो पोस्ट की भैंस  पर  खड़ा  हुआ लड़का ,फिर क्या था टिप्पणियों की बौछार हो गई|मुझे भी उस चित्र  ने आकर्षित किया जैसे ही मैं टिपण्णी करने लगी तो मुझे सबसे ऊपर एक टिपण्णी दिखाई दी जो किसी दीनदयाल शर्मा जी की थी लिखा  था ---फोटो मेरा और वाह वाही पाओ तुम कम से कम मेरा नाम तो लिख दिया होता पहले तो मैंने सोचा शायद भैंस के ऊपर जो लड़का है उसका कमेन्ट है किन्तु अगली टिपण्णी में बात साफ़ हो गई जिसमे लिखा था फोटो खींचूँ मैं और टिप्पणियाँ बटोरो तुम ---सच मानिए ये टिप्पणी का मजेदार सिलसिला काफी लम्बा चला फिर मैंने उत्सुकता वश दीनदयाल जी की प्रोफाइल को खोलकर देखा वहां उनके ब्लॉग का लिंक पाया दीनदयाल शर्मा उसपर क्लिक किया तो देखा वो एक बहुत जाने माने राष्ट्रपतिके हाथों से सम्मानित एक बाल साहित्यकार  हैं उनकी बहुत सी बुक प्रकाशित हो चुकी हैं |बस वहां से आइडिया मिला और अपना ब्लॉग क्रियेट किया ,इस तरह मेरे ब्लॉग का जन्म हुआ जब सबसे पहली कविता  पोस्ट  की तो सबसे पहली  उत्साह वर्धन करती हुई टिपण्णी कविता रावत जी की आई ११ मई 2010 को उसके बाद देव, ,दीनदयाल शर्मा जी और रूपचंद्र शास्त्री जी की टिप्पणियों से उत्साह वर्धन हुआ और इस तरह ते सफ़र शुरू हुआ| और धन्यवाद उस तस्वीर का कवि मुकन्दा जी का और विशेष आभार उस तस्वीर के जनक दीनदयाल शर्मा जी का देखिये उन टिप्तिपाती वार्तालाप की झलक --- incredible thinker - it is your photo....very nice.............aap bachpan me aise the.................i m just joking sir.............
Jun 28, 2010
आक्रोशित मन.... .ना माने मन की बात ... - ये मेरा नहीं मुकन्दा का फोटो है
Jun 28, 2010
आक्रोशित मन.... .ना माने मन की बात ... - ........मुकन्दा यानी हर वो व्यक्ति जो आत्म सचेतन है और सबका दोस्त है ..मै भी मुकन्दा हूँ...ये अभी हाल फिलहाल का फोटो है पुराना नहीं
Jun 28, 2010
Jun 28, 2010
- nice pic.......................kya baat hai sir.........!!!!
Jun 28, 2010
KAVI*SUMIT * MISHRA - bahut achha kaam hai
Jun 28, 2010
Jun 28, 2010
rajesh kumari - photo achcha laga aur jiska photo hai uska comment padh kar aur achcha laga.
Jun 28, 2010 
Atul Agarwal - kamaal ka santulan
Jun 28, 2010
Atul Agarwal - fotografer n b kamal kiya h.....unko b badhai
Jun 28, 2010
जोगी ... - waah waah !!!
Jun 28, 2010
deendayal sharma - Mere dwara kheeche gye photo par itne comments....aur mera comment kisne hta diya...? wah ! photo kheechoon to main aur badheeyan...Mukunda ji ko...mere orkut photos men to tiltle ke saat lga hai...ye... show more
http://www.deendayalsharma.blogspot.in--------अभी चलकर दीनदयाल जी को इस पोस्ट की खबर करती हूँ नहीं तो फोटो देखकर ऊँऊँ ////बचाओ| कहिये पोस्ट कैसी लगी ?
 ******************************************************************* 

18 टिप्‍पणियां:

  1. आपको आपके काव्यसंग्रह के लिए दिल से बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. रोचक, हम तो पढ़ पढ़ कर लिखना सीख गये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे वाह ये तो बहुत ही रोचक शुरुआत हुई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई हो !
    कोई भी अच्छी शुरूआत...कोई न कोई रोचकता लिये होती है |

    उत्तर देंहटाएं
  5. मजेदार रोमांचक प्रस्तुति,,,साझा करने के लिये आभार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (22-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके प्रेरणा स्त्रोत तो बड़े मस्त लगे.....उनके आगे बीन बजाने से आपको तो पक्का फायदा होता होगा :-)
    बहुत रोचक राजेश जी....
    आनंद आ गया...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  8. मज़ेदार रिपोर्टिंग रोचक शुरुवात..

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! राजेश जी.
    बहुत रोचक और मजेदार है यह तो.

    उत्तर देंहटाएं
  10. माल किसी का, वाहवाही किसी की। कई लोग तो हिंट दिये जाने पर भी यह नहीं कहते कि सामग्री उनकी नहीं है और उसे लगाने की आज्ञा लेने की ज़रूरत भी वे नहीं समझते। रोचक रहा ब्लॉगर बनने का यह क़िस्सा।

    उत्तर देंहटाएं