यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 12 सितंबर 2012

मेंहदी वाले हाथ



पलकों पे टिकी शबनम को सुखा ले साथिया
धूप के जलते टुकड़े को बुला ले साथिया 

जुल्म ढा रही हैं मुझ पर  सेहरे की लडियां 
इस  चाँद पर से बादल को हटा ले साथिया 

 बिछ गए फूल खुद  टूट कर  राहों में तेरी
 अब कैसे कोई  दिल को संभाले साथिया 

बिजली गिर जाए तेरे दामन पे कोई 
कर दे मेरी तकदीर के हवाले साथिया 

देख के सुर्ख आँचल में  लहराती शम्मा 
दे देंगे जान इश्क में मतवाले साथिया 

यहाँ जल रहे हैं यार सब किस्मत पे मेरी 
मेंहदी वाले हाथों में छुपा ले साथिया 
******************************** 

12 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बेहतरीन खुबसूरत ग़ज़ल क्या बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर भावपूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन और स्वयं ही बोलती हुयी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना....राजेश जी..

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाव मय सुन्दर रचना ... मेहँदी के सुर्ख हाथ ...
    लाजवाब रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. waah kya baat hai surkh mehandi ka chada rang laal hai ,
    hamko to aapke shabdo se pyar hai

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिछ गए फूल खुद टूट कर राहों में तेरी
    अब कैसे कोई दिल को संभाले साथिया

    बिजली न गिर जाए तेरे दामन पे कोई
    कर दे मेरी तकदीर के हवाले साथिया

    wah lajbab rachana likhi hai apne ....hr sher umda lga ...badhai ke sath abhar bhi.


    उत्तर देंहटाएं