यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 1 मई 2012

मजदूर (ग़ज़ल ) १ मई २०१२


मजदूर (ग़ज़ल ) १ मई २०१२
जवानी में उम्र ओढ़ कर आये हो
क्या उम्मीद छोड़  कर आये हो
कितने खारे हैं तेरी आँख के आंसू
क्या समंदर निचौड़ कर आये हो
नजरों से झलकते दर्द के बादल
क्या तूफां को मोड़ कर आये हो  
कितने अंगार छुपे  तेरे शब्दों में
क्या बारूद से जोड़ कर आये हो 
तेरी पिंडलियाँ क्यूँ तनी हुई
क्या मैराथन दौड़ कर आये हो
तेरी उंगलियाँ  क्यूँ छिली हुई
क्या पाषाण फोड़ कर आये हो
भूखे हैं तीन पेट और तेरे साथ
क्या जंजीर तोड़ कर आये हो 

16 टिप्‍पणियां:

  1. मई दिवस पर ये खूबसूरत ग़ज़ल पढ़ कर आनंद आ गया...

    जवानी में उम्र ओढ़ कर आये हो
    क्या उम्मीद छोड़ कर आये हो...

    बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  2. मई दिवस पर ये खूबसूरत ग़ज़ल पढ़ कर आनंद आ गया...

    जवानी में उम्र ओढ़ कर आये हो
    क्या उम्मीद छोड़ कर आये हो...

    बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  3. aek majdur ki aatmaktha hi to hae aapki post .bahut achha likhati haen aabhr.

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ! सशक्त शब्दोँ के साथ प्रभावी गजल । बहुत उम्दा विषय ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,प्रभावित करती मजदूर दिवस पर सुंदर रचना,.बधाई राजेश कुमारी जी

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया ...
    बेहद सशक्त रचना राजेश जी...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सन्नाट अभिव्यक्ति, अन्दर तक हिलाती हुयी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मजदूर दिवस पर प्रभावशाली रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. भूखे हैं तीन पेट और तेरे साथ
    क्या जंजीर तोड़ कर आये हो ...bahut sahi kaha ..aek majadur ki vutha ...apne shando mei ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. कल 04/05/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. shramikon ki vyathaa ko kabhi nahin samjha gaya. aapki rachna mein unkaa dard bharpoor prakat ho raha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक अलग सी गज़ल श्रमिकों का दरद कहती हुई ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. सार्थकता लिए सटीक अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह क्या बात है
    (अरुन arunsblog.in)

    उत्तर देंहटाएं
  15. मजदूरों की व्यथा कहती अच्छी रचना है...बधाई

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  16. कितने खारे हैं तेरी आँख के आंसू
    क्या समंदर निचौड़ कर आये हो ..

    वाह ... बहुत ही खूबसूरत शेर .. मजदूरों के दर्द कों उतारा है इन शेरों में ...

    उत्तर देंहटाएं