यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 15 मई 2012

चौपाई (पर्यावण )


    हरित तरु अरु प्रकृति न्यारी |व्याधि निवारक आपद हारी ||       
  गर्भस्थ शिशु सम जीव विस्तारी |करे सुपोषण ज्यों महतारी ||
वन,उपवन,गिरी वय संचारी |होई है अधम जो चलावै आरी ||
कुपित प्रकृति रूप जेहि धारे |ताहि कहौ फिरि कौन उबारे ||
स्नेह जल सींचि-सींचि तरु बोई |प्राण सफल आनंद फल होई ||
जबहिं कठिन परिश्रम कीजै |तबहिं सम- सरस फल लीजै ||
सुपर्यावरण में ज्योति तुम्हारी |इदं उक्तिम ग्रहेयु नर नारी ||



17 टिप्‍पणियां:

  1. जबहिं कठिन परिश्रम कीजै |तबहिं सम- सरस फल लीजै ||

    Bahut Sunder....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच है..प्रेम से सींचें तब ना मीठे फल पायेंगे.....
    बहुत सुंदर राजेश जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वन,उपवन,गिरी वय संचारी |होई है अधम जो चलावै आरी ...

    सच कहा है .. पर आज कोई इस बात कों नहीं सुनना चाहता ... जब पानी सर से गुज़र जायगा तब जागेंगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुपित प्रकृति रूप जेहि धारे |ताहि कहौ फिरि कौन उबारे ||
    सुन्दर है पर्यावरणी चौपाई .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर बनी हैं चौपाई....

    उत्तर देंहटाएं
  6. पर्यावरण के प्रति जागरूकता ज़रूरी है...सुन्दर चौपाइयां...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुविषय सुगढ़ रची चौपाई।
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी पोस्ट 17/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 882:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  9. चौपाई अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये किस कवि की कल्पना का चमत्कार है
    ये कौन चित्रकार है ये कौन चित्रकार!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...आभार

    उत्तर देंहटाएं