यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 31 जुलाई 2011

जब यह रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी

मौत का तांडव यहाँ हर रोज होता है !
कब ,कौन ,कहाँ ,कैसे अपनों को खोता है !
क्यूँ लाचार है इंसानियत ,क्यूँ हावी है हैवानियत !
आओ मिलकर ये सोचेंगे 
जिंदगी पर किसका हक है ?
ये खुदा से पूछेंगे !

ना जाने कौन सा आसमां होगा कौन सी जमीं होगी 
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !
कौन सा लम्हा होगा कौन सी घडी होगी
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !
जिस्म क्या है एक शाख का पत्ता ही तो है 
आज दरख़्त की शान है कल टूटा हुआ तिनका ही तो है ,
ना जाने कौन सा पतझड़ होगा कौन सी ऋतू होगी, 
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !
जिस्म क्या है एक पानी का बुलबुला ही तो है ,
आज मौजों में डोल रहा कल जलमग्न होना ही तो है!
ना जाने कौन सा भंवर होगा कौन सी लहर होगी, 
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी ! 
जिस्म क्या है एक जलता हुआ दीपक ही तो है ,
एक पहर गर्व से चमक रहा दूजे पल तिमिर में छुपना ही तो है! 
ना जाने कौन सा झोंका होगा कौन सी आंधी होगी, 
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी ! 
जिस्म क्या है कुछ दिनों का महमां ही तो है 
आज स्वजनों के बीच जिया 
कल सबसे बिछुड़ जाना ही तो है !
ना जाने कौन सा कन्धा होगा कौन सी गोदी होगी ,
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !
ना जाने कौन सा आसमां होगा कौन सी जमीं होगी 
जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !  

22 टिप्‍पणियां:

  1. अरे वाह!
    आपने तो बहुत खूबसूरत ग़ज़ल लिखी है!
    बहुत सुन्दर पोस्ट!
    --

    उत्तर देंहटाएं
  2. न जाने कौन सा पतझड़ होगा ,कौन सी ऋतु होगी ....जाना बस एक रिहर्सल एक "दे -जावू ".कृपया इसे भी बांचें .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिंदगी पर किसका हक है ?
    ये खुदा से पूछेंगे !

    बेहद संवेदनशील...

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी पोस्ट की चर्चा सोमवार १/०८/११ को हिंदी ब्लॉगर वीकली {२} के मंच पर की गई है /आप आयें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएँ /हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। कल सोमवार को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अंतर्मन को उद्देलित करती पंक्तियाँ, बधाई....

    उत्तर देंहटाएं
  6. ना जाने कौन सा कन्धा होगा कौन सी गोदी होगी ,
    जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !
    ना जाने कौन सा आसमां होगा कौन सी जमीं होगी
    जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी ! kitna kuch hai... moh bhi , virakti bhi

    उत्तर देंहटाएं
  7. दार्शनिकता से लबरेज़ सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मौत का तांडव यहाँ हर रोज होता है !
    कब ,कौन ,कहाँ ,कैसे अपनों को खोता है !
    क्यूँ लाचार है इंसानियत ,क्यूँ हावी है हैवानियत !
    आओ मिलकर ये सोचेंगे
    जिंदगी पर किसका हक है ?
    ये खुदा से पूछेंगे !
    सहज, सरल शब्दों के प्रयोग से सुंदर भावाभिव्यक्ति! बहुत अच्छी प्रस्तुति! हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. pehli baar aapke blog pe aaya..

    kavitayen padhin, kshankaayen padhin, sabhi bahut achhi lagi.....

    ek vichar vyakt karna chahunga ki agar aap apna blog parichay hindi me likhen to, aapke blog ko aur sunder bana dega...mere seemit gyaan ke anusaar, vartmaan parichay me kuchh trutiyan prateet hoti hain..aasha hai aap bura nahi maanengi....

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर सन्देश देती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपको और आपके परिवार को हरियाली तीज के शुभ अवसर पर बहुत बहुत शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. कृपया मेरे ब्लॉग

    http://ghazalyatra.blogspot.com/

    पर भी आपका स्वागत है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज स्वजनों के बीच जिया
    कल सबसे बिछुड़ जाना ही तो है !
    ना जाने कौन सा कन्धा होगा कौन सी गोदी होगी ,
    जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !

    very impressive presentation !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  15. कल 26/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  16. Bahut sundar tarike se sachchai ko bayan kiya hai...badhiya shabd prayog....

    www.poeticprakash.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. जिस्म और रूह के यथार्थ को कहती अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. आज स्वजनों के बीच जिया
    कल सबसे बिछुड़ जाना ही तो है !
    ना जाने कौन सा कन्धा होगा कौन सी गोदी होगी ,
    जब ये रूह जिस्म से जुदा हो रही होगी !
    बहुत ही गहन भावों को समेटे बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. सत्य से रु-ब-रु करवाती एक बेहद उम्दा रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस बहुत उम्दा रचना के लिये सादर बधाई स्वीकारें....

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत खूबसूरत भाव

    जिस्म और रूह को तो अलग होना ही है
    पर जब तक साथ है तो उसे सार्थक बना लें

    उत्तर देंहटाएं