यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 17 जुलाई 2011

एक छोटी सी प्रेम कहानी जो इतिहास बन गई(rosh hanikra in israel) A love story between sea wave and mountain

                          तेरी बुलंदी और तटस्थता, 
                         तेरी धवलता और वो चुम्बकीय आकर्षण 
                        जो मुझे अनायास ही खींचता चला गया !
                        तेरे द्रगो के मौन आमंत्रण को पढ़ लिया था मैंने 
                        जिससे वशीभूत होकर ,तेरा स्पर्श पाने को आतुर 
                      तुझे छूने चली आई !
                   पर मेरी अपेक्षा के विपरीत तुझमे कोई हलचल न देख कर 
                   मायूस होकर लौट गई!
                  क्या वो सब मेरा भ्रम था ?
                   चाहत का अनादर सहना मेरे स्वभाव  में नहीं था 
                    तुम्हारे गुरूर को झुकाना 
                    मेरा लक्ष्य बन गया !
                      उद्वेग और उच्श्रन्ख्लता  से ,आहत मन से 
                     मैं नित्य तुम्हारे हर्दय पर प्रहार करने लगी !
                     तुम्हारे मौन तप को मैं  गुरूर समझ बैठी 
                   मेरे दिल से निकली आहों ने ,
                   आकाश और पाताल को झकझोर कर रख दिया !
                  धरा के अन्तः उर में तीव्र कम्पन उत्पन्न हुई, 
                    आकाश ने तुम्हारी तपस्या को भंग करने में 
                   दामिनी का सहारा लिया !
                  मेरा कद तुम्हारे मस्तक तक ऊँचा उठ गया 
                    दस्तक तुम्हारे कर्ण पटल तक पहुंची 
                  तुमने आँखे खोली ,
                       मुझे सामने खड़ा पाया! 
                    तुमने अपने हर्द्य के कपाट खोले 
                 और मुझे आलिंगन बध कर लिया, 
                 पूर्णतः अपने में विलीन कर लिया 
        और इस तरह  हम  इतिहास के साँचे में ढलते चले गए !

17 टिप्‍पणियां:

  1. गम्भीर वैचारिक सोच से उद्भूत एक सुंदर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (11-7-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन कविता। चट्टानों को बार बार भेदती है लहरों की ऊर्जा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. खूबसूरत चित्र के साथ मन के भावों को बहुत सुन्दर लिखा है...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर चित्र के साथ शानदार और लाजवाब कविता! उम्दा प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  6. खूबसूरत चित्र के साथ मन के भावों को बहुत सुन्दर लिखा है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. तेरी बुलंदी और तटस्थता,
    तेरी धवलता और वो चुम्बकीय आकर्षण
    जो मुझे अनायास ही खींचता चला गया !
    तेरे द्रगो के मौन आमंत्रण को पढ़ लिया था मैंने
    जिससे वशीभूत होकर ,तेरा स्पर्श पाने को आतुर
    तुझे छूने चली आई !

    जितना सुंदर चित्र, उतनि ही सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह रचना तो बहुत उच्चकोटि की है!
    हर एक शब्द का प्रयोग बहुत अच्छे ढंग से किया है आपने!
    --
    मगर अक्षरों का लाल रंग बहुत खटकता है!
    काले बेकग्राउण्ड में तो हल्का रंग ही अच्छा लगता है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. दोनों का धैर्य...काबिले तारीफ है...तभी प्रेम कहानियां बनतीं भी हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  10. एक दूसरे को समझना आवश्यक है....शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  11. bahut sundar rachana likhi hai aapane..god bless ..keep it up Rajesh Ji

    उत्तर देंहटाएं
  12. खूबसूरत चित्र के साथ बेहतरीन कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  13. रचना के साथ -साथ चित्र भी बहुत सुन्दर थे

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुझे ये बताते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है की हिंदी ब्लॉगर वीकली{१} की पहली चर्चा की आज शुरुवात हिंदी ब्लॉगर फोरम international के मंच पर हो गई है/ आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज सोमवार को इस मंच पर की गई है /इस मंच पर आपका हार्दिक स्वागत है /आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/इस मंच का लिंक नीचे लगाया है /आभार /

    www.hbfint.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं