यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 16 जुलाई 2012

शिवरात्री की शुभकामनाएं

मेरे सभी मित्रों को शिवरात्री की शुभकामनाएं 
 आज  शिवरात्री है गाँव में  सावन के झूले पड़े हैं बस गीत सुनना बाकी है चलो मैं सुना देती हूँ एक ऐसा लोक गीत जो शायद मेरे जन्म से पहला है ओर मेरे बाद भी चलता रहे गा|
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
पार्वती ने बोई हरी -हरी मेहँदी (२)
शिव शंकर जी भांग उगाय ,बुंदिया पड़ने लगी
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
पार्वती ने कूटी हरी- हरी मेंहदी (२)
शिवशंकर ने घोट लियो भांग ,बुंदिया पड़ने लगी
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
पार्वती की रच गई हरी -हरी मेंहदी (२)
शिवशंकर को चढ़ गई भांग ,बुंदिया पड़ने लगी 
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
पार्वती जी नहाई हल्दी चन्दन  के लेप से (२)
शिवशंकर भभूत लगाय ,बुंदिया पड़ने लगी 
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
पार्वती ने पहनी मुतियन की माला (२)
भोले शंकर ने नाग लिपटाय,बुंदिया पड़ने लगी 
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी
पार्वती ने डाले रेशम के झूले (२)
शिवशंकर जी पेंग बढ़ाय ,बुंदिया पड़ने लगी 
शिव शंकर चले कैलास बुंदिया पड़ने लगी||
*********

13 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर राजेश जी.....
    रचना तो बहुत प्यारी है ..
    मगर आज शिवरात्री???? शिवरात्री याने भोले बाबा के विवाह कि रात...उसे तो हम फाल्गुन/माघ मास में मनाते हैं न??

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. पंचांग के मुताबिक आज शिव चतुर्दशी या मंगला गौरी व्रत है...
    इस दिन की क्या महत्ता है इसका मुझे ज्ञान नहीं..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. सारी अनु जी कल की जगह आज लिख दिया उत्तर प्रदेश में बाकी जगह का मुझे ज्ञान नहीं इस श्रावण मॉस में भी ये शिवरात्री का त्यौहार मनाया जाता है कांवड़ये दूर दूर से आकर गंगा जल हरिद्वार से लाकर शिव पर चढाते हैं तीज त्यौहार के भी तैयारी शुरू हो जाती है जो २२ तारिख को है झूले पड़ने लगे हैं

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. राजेश जी आपको भी अनंत शुभकामनाएं...
      आज कल वाली बात नहीं....मुझे तो त्यौहार का ही पता न था...हम तो शिव-पार्वती जी के विवाह के दिन को ही शिवरात्री के नाम से मनाते हैं :-)

      सादर
      अनु

      हटाएं
  4. सावन के महीने मे झूला झूलते हुये हम यही गीत गाया करते थे आज वो ही यादें ताज़ा कर दीं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर राजेश जी..आप को शिवरात्रि की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. शिवरात्री की शुभकामनयें ... सुन्दर गीत शब्द भावमय रचना के साथ ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. सावन और शिवरात्रि -- दोनों की शुभकामनाएं .
    सुन्दर गीत .

    उत्तर देंहटाएं
  8. यह अजीब बात है कि शिव के वैवाहिक जीवन में इतना कुछ उल्टा-पुल्टा रहा,फिर भी केवल उनकी ही शादी की वर्षगांठ भक्तों में मनाए जाने की परम्परा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप सभी को भी शिवरात्रि की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं