यह ब्लॉग खोजें

लोड हो रहा है. . .

मंगलवार, 1 नवंबर 2011

पर्यावरण बचाओ


पर्यावरण बचाओ
हरे हरे तुम पेड़ लगाओ
फिर उन्ही से छैयां पाओ
करते रहे तुम यूँ ही कटाई
फिर मत कहना विपदा आई I
पर्यावरण से छेड़ करोगे
अपनी ही नाव में छेद करोगे I
करते रहे पर्वतों की छटाई
फिर मत कहना विपदा आई I
प्रकर्ति को रुष्ट करोगे
फिर जीवन भर कष्ट सहोगे
सिंघों बाघों की जो संख्या घटाई
फिर मत कहना विपदा आई I
प्रदूषण को दूर भगाओ
जीवन में खुशहाली लाओ
जो नहीं ये बात समझ में आई
वो देखो देखो विपदा आई I
*****











25 टिप्‍पणियां:

  1. पर्यावरण संरक्षण के सार्थक संदेश के साथ अनमोल रचना ! काश सब इससे प्रेरणा ले सकें !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. पर्यावरण व प्राणी प्रेम पर सशक्त रचना.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच-687:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर रचना....
    पर्यावरण संरक्षण आज की महती आवश्यकता है...
    सादर बधाई...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. मैं फिर सोच में डूब गया........

    अलसाया सा
    मूढे पर बैठा था
    सोच में डूबा था
    चिड़िया की चहचाहट
    ने ध्यान भंग किया
    नज़रें उठायी
    देखा तो रोशनदान पर
    चिड़िया तन्मयता से
    घोंसला बना रही थी
    उसके सीधेपन पर
    ह्रदय में दुःख होने लगा
    लोगों ने निरंतर
    बड़े पेड़ों
    उनपर लगने वाले
    घोंसलों को नहीं छोड़ा
    अनगिनत पक्षियों को
    बेघर किया
    रोशनदान में लगे घोंसले
    को कौन छोड़ेगा?
    एक दिन इसे भी बेघर
    होना पडेगा
    अस्तित्व के लिए
    लड़ना पडेगा
    मैं फिर सोच में
    डूब गया........
    02-11-2011
    1741-10-11-11

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. प्रदूषण को दूर भगाओ
    जीवन में खुशहाली लाओ

    सही कहा आपने अब तो हमें सचेत हो हि जाना चाहिए!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. सबको पर्यावरण के प्रति जागरूक होना चाहिए...एक हरि-भरी कविता के लिए बधाई...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. पर्यावरण से छेड़ करोगे
    अपनी ही नाव में छेद करोगे

    सन्देश
    तो पहुँच ही रहा है
    बहुत सुन्दर और प्रभावशाली काव्य !!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. सामयिक परिदृश्यों को स्वर देना मानव कर्तव्यों का निष्ठा पूर्वक निर्वहन करना है , जिसको आपने बखूबी निभाया है ...
    साधुवाद जी /

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. आपके पोस्ट पर आना बहुत ही अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. प्रदूषण को दूर भगाओ
    जीवन में खुशहाली लाओ

    सार्थक संदेश.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. सार्थक सन्देश देती अच्छी रचना ..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं





  13. पर्यावरण चेतना की सुंदर रचना के लिए बधाई …

    आपका ब्लॉग भी बहुत ख़ूबसूरत और साफ-सुथरा नज़र आ रहा है ।
    बहुत अच्छा लगा ।


    बधाई और मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. पर्यावरण को कैसे बचाया जाय
    सन्देश देती सार्थक रचना,
    सुंदर पोस्ट ...
    मेरे नए पोस्ट में स्वागत है ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. आपका ब्लॉग भी बहुत ख़ूबसूरत और आकर्षक लगा । अभिव्यक्ति भी मन को छू गई । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद . ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं