यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 13 नवंबर 2011

लावारिस

25 टिप्‍पणियां:

  1. भावुक मन से लिखी गई ...दर्द भरी दास्ताँ ....
    शुभकामनाएँ!

    (एक अर्ज़ करना चाहूँगा उम्मीद है ,आप बुरा नही मानेंगी .....
    काले पे पीला पढ़ने में मुझे तो दिक्कत दे रहा है ....क्षमा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सार्थक, प्रभावशाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. किसी की गलती की सजा किसी और को मिले...ऐसा लगता है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही मर्मस्पर्शी और सार्थक कविता।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।
    बालदिवस की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही संवेदनशील एवं भावपूर्ण रचना! ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर... अत्यंत भावपूर्ण सार्थक रचना...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  11. संवेदना जगाता हुआ एक यक्ष प्रश्न न जाने कब उत्तरित होगा....

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी कविता दिल को छू गयी...एक डॉ होने की वजह से जीवन में ऐसी कहानियां भी आई जो इन भावों को लिए थी..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर संवेदनशील मन को झकझोरती खुबसूरत रचना,बधाई ...
    मेरे पोस्ट में स्वागत है,...

    उत्तर देंहटाएं
  14. डर है,जब तक हमें चूक का अहसास हो,इतनी देर न हो जाए कि सुधार करने में पीढ़ियां गुज़र जाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१८) के मंच पर शामिल की गई है/.आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हिंदी की सेवा इसी तरह करते रहें यही कामना है /आपका
    ब्लोगर्स मीट वीकलीके मंच पर स्वागत है /आइये /आभार /

    उत्तर देंहटाएं