यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 22 मई 2011

मृग तृष्णा

                                                                       मृग तृष्णा में लिप्त 
                                               अनवरत गति से भागते हुए 
                                               जब थक कर चूर होकर 
                                               मायूसी के मरुस्थल में लेट जाती हूँ 
                                                ऊपर खुले आसमां को निहारते हुए 
                                                पूछती हूँ "प्यासी हूँ कंहाँ जाऊ" 
                                            उसने हथेली पे मेरी एक जल की बूँद गिरा दी !                                                                                                       
                                           " अगर तू है तो मैं तुझे सुनना चाहती हूँ "
                                              उसने बादलों की गर्जना सुना दी !                                                                      
                                              मैंने कहा "भूखी हूँ मैं " 
                                             उसने लहलहाती फसल दिखा दी !
                                           मैंने कभी  तुझे देखा ही नहीं  "
                                           उसने दामिनी की चमक दिखा दी !
                                                               
                                            कैसे बनाऊ अपना स्वर्ण महल "
                          उसने चोंच में तिनका लेकर जाती हुई चिडिया  दिखा दी !
                                           "मैं तुझे महसूस करना चाहती हूँ "
                                             उसने एक तितली मेरी बांह पे बिठा दी !
                                            मैंने कहा "अब विश्राम करना चाहती हूँ "
                                           उसने तरु की एक  कोमल पत्ती  बिछा दी !! 
                                                                  
                                                                   
                                                                   
         

20 टिप्‍पणियां:

  1. इच्छाएं यूँ ही निरंतर बढती जाती हैं ...सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर और कोमल अहसास ।
    उम्दा रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर और कोमल अहसास|सुन्दर अभिव्यक्ति|

    उत्तर देंहटाएं
  4. कोमल एहसासों से सजी हुई मखमली रचना मुझे बहुत पसंद आई है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आध्यात्मि दृष्टिकोण से लिखी ,ईश्वर का हर जगह अस्तित्व दर्शाती हुई और संसार की नश्वरता की ओर इंगित करती रचना । उसे सुनने की इच्छा बताई तो बादल,दर्शन के लिये बिजली दिखादी। अति अति सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  6. अध्यात्म के साथ ज़िन्दगी का संघर्ष दिखाती एक बेहद गहन अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  7. स्रष्टि हर इच्छाएं पूरी करती तो है ....शुभकामनायें आपको !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह! आपने तो भगवद्गीता के 'विभूति योग' के दर्शन करा दिए.
    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.मेरी पोस्टें आपका इंतजार कर रहीं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुंदर पंक्तियाँ.... इच्छाओं का कहाँ अंत है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. "मैं तुझे महसूस करना चाहती हूँ "
    उसने एक तितली मेरी बांह पे बिठा दी !
    मैंने कहा "अब विश्राम करना चाहती हूँ "
    उसने तरु की एक कोमल पत्ती बिछा दी
    bahut bhavpoorn abhivyakti.rajeev ji ke blog se aapke blog par aana hua aur aana sarthak ho gaya .rajesh ji aise hi apne bhav abhivyakt karti rahe .

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैं तुझे महसूस करना चाहती हूँ
    उसने एक तितली मेरी बांह पे बिठा दी
    मैंने कहा अब विश्राम करना चाहती हूँ
    उसने तरु की एक कोमल पत्ती बिछा दी !!

    कविता में भावों के अनुकूल प्रतीकों का चयन उसे उत्कृष्ट बना रहा है।
    सुंदर रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  12. "मैं तुझे महसूस करना चाहती हूँ "
    उसने एक तितली मेरी बांह पे बिठा दी !
    मैंने कहा "अब विश्राम करना चाहती हूँ "
    उसने तरु की एक कोमल पत्ती बिछा दी !!

    बहुत ही मनमोहक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर अभिव्यक्ति आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. मैंने कहा "भूखी हूँ मैं "
    उसने लहलहाती फसल दिखा दी !
    मैंने कभी तुझे देखा ही नहीं "
    उसने दामिनी की चमक दिखा दी !bahut hi sunder rachanaa.bahut hi snder shabdon ka chyan,badhaai aapko.main paheli baar aapke blog main aai hoon .mujhe aapki rachanayen bahut achchi lagi.aabhaar.


    please visit my blog and leave the comments also.

    उत्तर देंहटाएं
  15. मैंने कहा "अब विश्राम करना चाहती हूँ "
    उसने तरु की एक कोमल पत्ती बिछा दी !!

    बहुत ही मनमोहक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. beautifully written.
    Desires are never satisfying.

    I hav written on the same topic. Plz hav a look.
    http://jyotimi.blogspot.com/2011/05/never-satisfied.html

    उत्तर देंहटाएं
  17. supreme power ko le jo jigyasa rahtee hai aur sawal man me panapte rahte hai unka viklalp bahut hee pyara abhivykt kiya aapne.
    bahut pyaree rachana hai .
    Aabhar

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर....

    बस इसे महसूस ही किया जा सकता है....!

    वो जो है कहीं..

    किसी न किसी तरह अपना एहसास दे ही जाता है..!!

    खूबसूरत..!!

    उत्तर देंहटाएं