यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 4 अगस्त 2010

Meet ,Dard ka paigam

कौन जाने कब मीत बन के दगा दे कोई
फूलों की तह में कांटो की पर्त बिछा दे कोई !
बहारों का सन्देश लेकर आती हुई उन हवाओं को टटोलो
कोन जाने दर्द का पैगाम छुपा दे कोई !
संभल के खोलना उन दरों दरवाजों को
कौन जाने अश्कों को तेरी चोखट पे सजा दे कोई !!.

1 टिप्पणी:

  1. अब आपके बीच आ चूका है ब्लॉग जगत का नया अवतार www.apnivani.com
    आप अपना एकाउंट बना कर अपने ब्लॉग, फोटो, विडियो, ऑडियो, टिप्पड़ी लोगो के बीच शेयर कर सकते हैं !
    इसके साथ ही www.apnivani.com पहली हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट है| जन्हा आपको प्रोफाइल बनाने की सारी सुविधाएँ मिलेंगी!

    धनयवाद ...

    उत्तर देंहटाएं