यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 24 अगस्त 2010

kuch dard

कुछ दर्द उजागर होने दो

कुछ दर्द जिगर को सहने दो 


कुछ लफ्ज लबों से कह डालो 


कुछ लफ्ज नयन से कहने दो !


कुछ राज जमाना जान भी ले 


कुछ अंतर्मन मे  रहने दो


कुछ अश्क पलक पे रहने दो


कुछ भवसागर में बहने दो !


कुछ रोज यहाँ मर मर के जिए


कुछ पल उल्फत में जीने दो 


कुछ जफा के प्याले बिखरा दो 


कुछ जाम वफ़ा के पीने दो !!

5 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ जफा के प्याले बिखरा दो
    कुछ जाम वफ़ा के पीने दो !!
    --
    बहुत ही सार्थक और मन में आशा का संचार करती हुई रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीया राजेश कुमारी जी
    नमस्कार !
    बहुत अच्छी रचनाएं लगी हैं आपके ब्लॉग पर …

    कुछ लफ्ज लबों से कह डालो
    कुछ लफ्ज नयन से कहने दो !

    कुछ राज जमाना जान भी ले
    कुछ अंतर्मन मे रहने दो


    वाह ! वाह !
    बहुत बढ़िया …

    शुभकामनाओं सहित …
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं