यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 4 अप्रैल 2013

जहरीले चूहे (लघु कथा )

कमला बाई को सुबह -सुबह दरवाजे पर बुरी हालत में देख रीना का माथा ठनका । एक्सीडेंट के कारण अस्पताल में भर्ती हुई कल ही तो एक हफ्ते बाद वापस लौटी है ,सर पर पट्टी गले की हंसली टूटने पर पीछे हाथ कर बांधी हुई पूरी छाती पर पट्टी, आँखे सूजी हुई देखते ही फफक -फफक कर रो पड़ी कमला रीना के बहुत बार पूछने पर बताया "मेमसाब मेरी पट्टी देखकर मेरे दोसाल के बच्चे ने जो एक हफ्ते से तरस रहा था दूध को मुहँ  भी नहीं लगाया ,शायद मेरे दर्द को महसूस किया उसने पर वो उसके हरामी बाप ने कल !!बीच में फिर फफक कर रो पड़ी कमला कई बार पूछने पर बोली "अपने तीन बेवड़े दोस्तों के साथ  रात भर पीता रहा बोला आज तो बिना सींगों की गाय है तुम भी मजे  !!और मेमसाब रात भर !!इतना कहते- कहते कमला की आँखों में अंगारे दहकने लगे सुनकर रीना सन्न रह गई अवाक निःशब्द !"अब क्या करना है कमला कुछ देर की खामोशी के बाद रीना ने पूछा ,कमला ने अपनी हिचकियें रोकते हुए कहा मेमसाब कुछ पैसे दे दीजिये चूहे मरने की दवाई लानी है सुनते ही रीना अन्दर तक सिहर उठी नहीं कमला क्या करना चाहती हो ये ठीक नहीं है तुम्हारा दो साल का बेटा ,नहीं मेमसाब !कमला बीच में ही बात काटते हुए बोली "कमला इतनी कमजोर भी नहीं वो तो घर में जहरीले चूहे ज्यादा हो गए हैं ,कल तो मेरी आत्मा तक ही काट डाली ,और दो दिन बाद अखबार में खबर छपी की तीन चार लोग जहरीली शराब पीने से अस्पताल में मर गए । 
********************************************************************************

21 टिप्‍पणियां:

  1. ak taraf darindgi ki sari hade todati harkte aur dusari taraf ghinauni harkat karne vlo ko nashhat,behatareen

    उत्तर देंहटाएं
  2. मर्मस्पर्शी लघु कथा ...जिसमे समाज का एक सच, मातृ -प्रेम, करुना, दया, नारी शक्ति और बुरे का बुरा अंजाम ...सब समाहित हैं।

    पधारिये आजादी रो दीवानों: सागरमल गोपा (राजस्थानी कविता)

    उत्तर देंहटाएं
  3. sarthak katha ............wah aisa kadam , prerna deti hui rachna , par behad kadva jahal ugal rahi hai , ..... sarthak post sakhi

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा हुआ , कुछ जहरीले चूहे तो कम हुए !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही मार्मिक कथा,इन जहरीले चूहों का जीवित रहने का हक नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. औरत के कई रूप हैं...जो दोगे वही पाओगे .....!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह मेरे द्वारा आज तक पढ़ी ब्लोगी कहानियों में सबसे बेहतरीन लगी राजेश जी !
    बधाई आपको !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी इस प्रतिक्रिया ने मेरी लेखनी में नव ऊर्जा का संचार किया सतीश सक्सेना जी हार्दिक आभार आपका

      हटाएं
  8. इस प्रकार के जहरीले चूहे समाज में बहुत हैं जो किसी न किसी को खुशियों को कुतरते रहते हैं ऐसे चूहों का मर जाना ही ठीक है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. ऐसे चूहों का मर जाना ही ठीक है ...

    jai baba banaras...

    उत्तर देंहटाएं
  10. ज़हरीले चूहों का यही हश्र होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. Har sheher me kamla ki zarurat hai,is jan chetna ke liye saadhuwaad.

    उत्तर देंहटाएं