यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 22 अगस्त 2012

चौखट पे खड़े सपनों ने कैसे जान लिया


आज तन्हा है  दिल मेरा 
अब  होगा नहीं सवेरा 
 ये मैंने मान लिया 
तमस होगा मेरे घर का महमाँ 
चौखट पे खड़े सपनों ने कैसे जान लिया |
यादें बनेंगी फिर नीर के बादल 
डसेंगे काले सर्प बनके आँख के काजल 
 दिल ने मान लिया 
आज फिर होगी बरसात 
चौखट पे खड़े सपनों ने कैसे जान लिया |
अपनी ही परछाई को बना के हमदम 
फिर अपने आप से बाते करेंगे हम 
 दिल ने मान लिया 
तिल -तिल कटेगी रात 
चौखट पे खड़े सपनो ने कैसे जान लिया |
दिल पे देगी दस्तक हर चोट पुरानी
अश्रुओं की जुबाँ से सुनेंगे खुद की कहानी 
ये मैंने मान लिया 
फिर शिकवे करेगी बीती हर बात 
चौखट पे खड़े सपनो ने कैसे जान लिया |
गर्द में लिपटी हुई वो प्यार की तस्वीर पुकारेगी 
वो याद अपनी रात मेरे साथ गुजारेगी 
दिल ने  मान लिया 
आज फिर ग़मों की निकलेगी बारात 
चौखट पे खड़े सपनों ने कैसे जान लिया

12 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ी सुन्दरता से दिल के विचारों की बरसात की है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह गमों की बरसात कहाँ से चली आई .... सुंदर भावभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या कहने ..
    बहुत सुन्दर भाव अभिव्यक्ति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. mann ke gharate badal kavita ke roop mein bhey nikle hain, bahut sundar
    tippnni Kalpana Atray duara ki gayi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. भावमय करते शब्‍द ... बेहतरीन प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बड़ी ही सरलता से मन के भावों को सजा दिया है..

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर भावाभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  8. सपने जो चौखट पे खड़े हैं हार नहीं मानेंगे...बस के आँखों में फिर से जिद ठानेंगे...सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं