यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 14 दिसंबर 2011

पर का बोझ

मेरे ख़्वाबों के परों को आसमाँ मिलता रहा पर,उसको गज भर जमीं  ना मिली !
कितनी सुद्रढ़ है मेरे आशियाने की नीव पर ,  उसको एक पग देहली  ना मिली!
हीरे मणिक,रत्नों से भरा है मेरा पारावार पर, उसको खारी एक बूँद  ना मिली!
सतपक्वानो से भरी है मेरी थाली पर, उसे दो सूखी रोटी  ना मिली !
कितनी गर्म ,नर्म है मेरी रिजाई पर,उसे फटी एक कंबली  ना मिली !
फिर भी कितने सुकून से सोता है वो पर ,मुझे इक पहर भर नींद ना मिली !
और मैं इस पर के बोझ से भरी गठरी को अपनी नाव में रख कर जीवन भर खेती चली गई !!!     

25 टिप्‍पणियां:

  1. काश कि जो अपने पास था लुटाया होता
    तब इस पर ने न इतना सताया होता

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश, कुछ ऐसा होता,
    काश, कुछ वैसा होता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस किन्तु परन्तु के चक्कर में ही तो जिंदगी गुजर जाती है और पता भी नहीं चलता ।
    सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. पारो की चाह रखने वाले को जमीं पर आशियाना नहीं बनाना चाहिए ... जब पूरा गगन है उसके लिए तो उड़ते जाना चाहिए ... सुन्दर रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. फिर भी कितने सुकून से सोता है वो पर ,मुझे इक पहर भर नींद ना मिली ...
    सुन्दर प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये पर का बोझ वाकयी बहुत भारी होता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. पर के बोझ को बहुत करीने से सहेजा है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आर्थिक प्रगति के आंकड़ों को कसके चपत लगाती रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति । मेरे मए पोस्ट नकेनवाद पर आप सादर आमंत्रित हैं । धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर का बोझ हमेशा ही भारी होता है ....हर एक के जीवन में !!!
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  11. 'par' ek aisa shabd bhaav hai jivan ke liye jo kai sawaal chhod jata hai par ham jaante hue bhi kah nahin paate. shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बोझ हमेशा ही भारी होता है.. सुन्दर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत कुछ नहीं होता , इसी 'पर' के साथ जीना होता है...ये जीवन एक संघर्ष है, एक तपस्या है!

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut badiyaa prastuti.badhaai aapko .

    आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२२) में शामिल की गई है /कृपया आप वहां आइये .और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आपका सहयोग हमेशा इसी तरह हमको मिलता रहे यही कामना है /लिंक है

    http://hbfint.blogspot.com/2011/12/22-ramayana.html

    उत्तर देंहटाएं
  15. जिन राहों पर रोका उसने
    मैं उन राहों पर जाती रही !
    पतन खड़ा तेरी चौखट पे
    मैं जीत का जश्न मनाती रही,

    bahut kuch sametati hui rachana hai ... abhar.

    उत्तर देंहटाएं