यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 8 दिसंबर 2011

अद्दभुत रोमांचक जोल्ली बॉय और रोस आई लैंड


 jolly buoy islandआज यात्रा की मंजिल वो थी जिसका मुझे इन्तजार था जैसे की मुझे जलक्रीडा का बहुत शौक है और मुझे  जोल्ली बाय के विषय में जानकारी थी की वहां कुछ ख़ास है जैसे वहां पानी के विभिन्न रंगशेड , रेत का अलग रंग पारदर्शी पानी, स्नोर्क लिंग की व्यवस्था, पेंदी में शीशे वाली बोट जिससे समुद्र में नीचे का दिखाई देता है अंडर वाटर डाइविंग इत्यादि ! वहां सफाई की इतनी जबरदस्त व्यवस्था की बोट में चढ़ने से पहले हमारी चेकिंग हुई जो भी प्लास्टिक का सामान था वह बाहर निकाल दिया उन्होंने अपनी पानी की कूलिंग वाली   बोतलें दी बीच पर कोई गंदगी नहीं डाल सकता सब व्यवस्थाएं  प्राक्रतिक वातावरण  में  हैं (very natural surroundind no commercialization) अतः वहां  की सफाई एवं व्यवस्था ने बहुत प्रभावित किया -----देखिये कुछ चित्र वहां के
यह देखिये पानी के अद्धभुत शेड 

स्नोर्क्लिंग (snorkeling) करते हुए मेरा चित्र इस मास्क को पहन कर पानी में नीचे के कोरल मछलियाँ जल जीव  इत्यादि को देख सकते हैं कुछ लड़के वहां पर  ड्यूटी पर रहते हैं और आपको पानी में अन्दर स्नोर्क्लिंग कराते हैं  

ये मेरे बच्चे जो कुछ साल पहले हनीमून के लिए आये थे इस बार मेरे और अपनी दोनों बेटियों को अंडमान दिखाने लेकर आये कितने खुश हैं शायद पुरानी यादें जेहन में ताजा हो  रही हैं वहां घूमने जाने वाले टूरिस्ट में अधिकतर नव युगल दिखाई दिए     
यहाँ देखिये हम शीशे की बोट में बैठकर पानी के नीचे की दुनिया देख रहे हैं एक अनोखा अनुभव था 




वहां दो तीन घंटे बिता कर हम वापस होटल पहुंचे अगले  दिन हमे रोस आई लेंड देखना था इसी पोस्ट में आपको आईलेंड दिखा रही हूँ.

वापस आते हुए बोट का  चित्र titanic style
      
                                                                      रोस आईलेंड Ross island
अगले   दिन रोस आईलेंड पहुंचे वहां बच्चों के लिए एक छोटा सा नेशनल पार्क भी था उसमे हीरण, मोर, बत्तखे खुली लोगों के आसपास घूम रही थी !बच्चों को और क्या चाहिए था उनकी ख़ुशी दोगुनी हो गई !उस पार्क से नीचे की और काफी लम्बी सीढियां हैं जो नीचे बीच पर निकलती हैं नारियल के असंख्य पेड़ तथा कुछ अद्दभुत हजारों साल पुराने पेड़ों के बीच बसा है यह आईलेंड इसके पार्क में ब्रिटिशर्स के आफिसरों के आवास के ,चर्च के खंडहर भी मौजूद हैं -----देखिये कुछ सामग्री वहां से
                                          जट्टी जहाँ से शिप ,बोट चलते हैं 
                                           यह ब्रिटिशर्स के वक़्त का चर्च है 
देखिये हीरण कितने फ्रेंडली हैं वहां पर बच्चों ने सारे बादाम उनको खिलाये और उन्होंने बड़े चाव से खाए  



                                       झूलते हुए नारियल के पेड़ का बिस्तर बना लिया 
देखिये बीच को साफ़ रखने के निर्देश देते हुए वेस्ट चीजों से बनाये गए पप्पेट  
          नीचे  यह  वो गेट है जहाँ  से बोट चलती थी यही टिकेट मिलता है और दुसरे आईलेंड पर जाने के लिए  



  और इस तरह हमारे चार दिन व्यतीत हो गए हमने अंतिम दिन सेलुलर जेल अथवा काला पानी के लिए रखा है  अतः अगली ,अंतिम पोस्ट बहुत महत्वपूर्ण हैं अवश्य देखिये तब तक के लिए विदा all the best 

15 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर विवरण ,सुंदर चित्र ! हमने भी घर बैठे आप के द्वारा रोमांचक
    यात्रा का मज़ा ले लिया ....
    आभार!
    परिवार सहित खुश रहें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अगली पोस्ट का बेसब्री से इन्तजार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस सचित्र प्रस्‍तुति के लिए आपका बहुत-बहुत आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अहा, इन चित्रों ने तो घूमने की इच्छा जगा दी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Great pics !....We all are enjoying along with you and your lovely family.

    उत्तर देंहटाएं
  6. २००६ की यादें फिर से ताज़ा हो गई ।
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन मोहक यात्रा के बहुत सुंदर चित्र अच्छे लगे,....
    अगले पोस्ट के इंतजार में .....
    मेरे पोस्ट में आने के लिए आभार,.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूबसूरत नज़ारे कैद किये हैं आपने अपने कैमरे में!
    बढ़िया प्रस्तुति!

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबसूरत यात्रा के बहुत सुंदर चित्र अच्छे लगे,....


    संजय भास्कर
    आदत...मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  10. Super beautiful and amazing pics !! And how awesome is God’s creations too!!

    From Computer Addict

    उत्तर देंहटाएं
  11. बड़ी प्यारी सैर कराई आपने ...
    आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं