यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 25 सितंबर 2011

ऐ मेरी नन्ही परी

मेरी उपासना 
मेरी आकांक्षा 
मेरी पूँजी 
मेरा अह्म्मान !
मेरी यामिनी 
मेरी भोर 
मेरी जिंदगी 
साँसों की डोर !
मेरा अस्तित्व 
इन्द्रधनुषी सपने 
मेरी ग़ज़ल ,कविता 
और सब गीत अपने !
मेरा चाँद ,मेरा सूरज 
ऐ मेरी मोहिनी मूरत!
सब तेरी इस उन्मुक्त ,भोली मुस्कान के सदके
मुस्कान के सदके !! 

28 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया।
    -----
    कल 27/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह वाह बहुत सुन्दर भाव …………गज़ब की प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूबसूरत! भावपूर्ण प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है! यदि अधिक से अधिक पाठक आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोई आश्चर्य नहीं इस नन्ही मुस्कान को देख ऐसी मोहक रचना प्रस्फुटित हो!!
    इस प्रेम के लिए अनंत शुभकामनाएं!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति बधाई......

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस मुस्कान पर तो सब कुछ नयौछावर।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ख़ूबसूरत! भावपूर्ण प्रस्तुती!
    शुभकामनाएं!!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. अति सुन्दर... सलोनी सी बच्ची और प्यारी सी कविता... मनभावन!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर .लाड प्यार दुलार आकाश पायें सभी लाडली मेरे देश में .काश !ऐसा होने लगे !नव रात्र में विशेष सन्दर्भ शिव शक्तियों का आपने उकेरा है .आभार .

    उत्तर देंहटाएं





  12. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  13. गुड़िया रानी का परिचय तो दिया ही नहीं … :)


    बहुत बहुत प्यार और आशीर्वाद हमारा भी !

    सुंदर रचना के लिए आभार एवं बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  14. नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-..'अभिव्यंज' में आप का इंतजार है..

    उत्तर देंहटाएं
  15. आप सब को हार्दिक आभार आपने आकर मेरी नन्ही परी(मेरी नातिन )को आशीर्वाद दिया !

    उत्तर देंहटाएं