यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 21 सितंबर 2011

आँखें

मैंने देखी झील सी निश्छल, नवल जीवन में जब आई आँखे !

मैंने देखी अश्रुओं से भीगी भूख से कुम्भ्लाई आँखें !
मैंने देखी लालच ,फरेब ,मक्कारी से बौराई आँखें !


मैंने देखी वैमनस्य और द्वेश से चकराई आँखें ! 
मैंने देखी नफरत और हिंसा से खून में नहाई आँखें !
मैंने देखी संघर्ष से थकी जड़वत सी पथराई आँखें !
मैंने देखी जिंदगी में खुल के पछताई आँखें !
फिर हाथों से बंद कराई आँखें !
  

20 टिप्‍पणियां:

  1. उफ़ बेहद गहन विश्लेषण कर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ओह ... बहुत संवेदनशील ... चित्र भी सारे उपयुक्त लगाए हैं

    उत्तर देंहटाएं
  3. आखों की भाषा का सुन्दर चित्रण ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर भाव्मई शानदार रचना /बहुत बधाई आपको /
    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है जरुर पधारें /

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितना कुछ कह दिया~ आँखों ही आँखों में..गहन विश्लेषण .बहुत सुन्दर....

    उत्तर देंहटाएं
  6. चित्रों के आँखों की कहानी लाजवाब लगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैंने देखी संघर्ष से थकी जड़वत सी पथराई आँखें !
    मैंने देखी जिंदगी में खुल के पछताई आँखें !
    फिर हाथों से बंद कराई आँखें!

    तस्वीरों के कारण पोस्ट का चित्रण अधिक कारगर रहा है!बहुत अच्छी रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  8. waah...
    aankhe hi aankhe...
    aaj in aankho ne bhi kuch naya prayog dekha... bahut sundar...
    waah...

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर कविता और प्रेक्षण पारखी आँखें .

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक बड़े कैनवास पारखी दृष्टि से रिसती वेदना को समेटे है यह रचना जीवन के विविध रंगों को समेटती रूपायित करती .

    उत्तर देंहटाएं
  12. Loved this post...
    I agree eyes speaks a lot.
    Sometimes a glance says much more than an hour speech !!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. आंखों की विभिन्न संवेदनाओं को बहुत ही विभिन्न रंगों मे प्रस्तुत किया है, शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप की पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (१०) के मंच पर शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप हमेशा ही इतनी मेहनत और लगन से अच्छा अच्छा लिखते रहें /और हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आपका ब्लोगर्स मीट वीकली (१०)के मंच पर आपका स्वागत है /जरुर पधारें /

    उत्तर देंहटाएं
  15. मैंने देखी जिंदगी में खुल के पछताई आँखें !
    फिर हाथों से बंद कराई आँखें !

    ...जीवन के विभिन्न रंगों को आँखों के माध्यम से दिखाती बहुत संवेदनशील प्रस्तुति ... ..आभार

    उत्तर देंहटाएं