यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 19 सितंबर 2011

थक गए हैं पाँव मुसाफिर

थक गए हैं पाँव मुसाफिर 
आ थोडा विश्राम कर लें 
इस धरा का बना बिछौना
ऊपर से आकाश ओढ़ लें !
           इस पथ पर पुष्प खिले थे 
           या कांटो का जाल था 
           हरित सघन बट छाया थी 
           या अंधड़ भूचाल था 
क्या पाया क्या खोया हमने 
आ थोड़ी ये गणना कर लें 
थक गए हैं पाँव मुसाफिर 
आ थोडा विश्राम कर लें !
             शांति ,सत्य ,सन्मार्ग ,समर्पण 
             आ कुछ उनकी खोज खबर लें 
             खो गए थे जो राहों में 
             आ उनको बाहों में भर लें !
भूल के अपने जख्मों को 
ये सोचो क्या खोया हमने 
याद करो किसके दिल पर 
आज मरहम लगाया हमने 
             खुद के लिए जिए थे अब तक 
             आ औरों की खातिर जी लें 
             अहम् का  नशा पिया था अब तक 
             आ औरों का दर्द भी पी लें !
             

26 टिप्‍पणियां:

  1. संघर्षों के बाद विश्राम आवश्यक है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर मन के भाव और अभिव्यक्ति भी .....

    उत्तर देंहटाएं
  3. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें


    वाह अप्रतिम रचना...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    अहम् का नशा पिया था अब तक
    आ औरों का दर्द भी पी लें !

    बेहतरीन।

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम जैसे मुसाफ़िर आराम नहीं करते, आराम तो आलसी लोग करते है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. कल 21/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  8. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    बेजोड भावो का सुन्दर संगम्……………बहुत पसन्द आयी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    अहम् का नशा पिया था अब तक
    आ औरों का दर्द भी पी लें !
    --
    आज इन्हीं भावनाओं का अकाल हो गया है!
    मगर आपने बहुत फिनव संदेश दिया है इस रचना में!

    उत्तर देंहटाएं
  10. याद करो किसके दिल पर
    आज मरहम लगाया हमने
    वह , बहुत khoob ।
    सुन्दर rachna ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    अहम् का नशा पिया था अब तक
    आ औरों का दर्द भी पी लें !

    लाजवाब गीत बहुमूल्य विचार ...आभार संग्रहणीय

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    अहम् का नशा पिया था अब तक
    आ औरों का दर्द भी पी लें !

    सुंदर संदेश , अच्छी रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. भूल के अपने जख्मों को
    ये सोचो क्या खोया हमने
    याद करो किसके दिल पर
    आज मरहम लगाया हमने

    बहुत सुन्दर पंक्तियाँ ! सुन्दर सन्देश देती रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  14. sunder bhavon se saji rachna ......
    aabhar mere blog par aaneka ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. भूल के अपने जख्मों को
    ये सोचो क्या खोया हमने
    याद करो किसके दिल पर
    आज मरहम लगाया हमने
    खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    यही सच्ची जिन्दगी है....
    बड़ी सुन्दर रचना....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  16. खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    मार्मिक रचना .... बधाई.

    बालसाहित्य का अनोखा संसार

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या पाया क्या खोया हमने
    आ थोड़ी ये गणना कर लें
    थक गए हैं पाँव मुसाफिर
    आ थोडा विश्राम कर लें !

    जीवन का आकलन करती बहुत सुन्दर सारगर्भित रचना...बहुत सुन्दर चित्र संयोजन...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  18. भूल के अपने जख्मों को
    ये सोचो क्या खोया हमने
    याद करो किसके दिल पर
    आज मरहम लगाया हमने
    खुद के लिए जिए थे अब तक
    आ औरों की खातिर जी लें
    अहम् का नशा पिया था अब तक
    आ औरों का दर्द भी पी लें !....कितनी नाज़ुक बात, कितनी आसानी से कह दिया ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. थक गयें हैं पाँव मुसाफिर।
    बहुत अच्छा।

    उत्तर देंहटाएं
  20. khud k liye jiye the ab tak
    aa auron k liye jee len...
    waah... behad khoobsoorat rachna... sundar

    उत्तर देंहटाएं