यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

मैं ग़ज़ल लिखूँ या गीत लिखूँ ?

छंदों की फुहार हैं भीगे अशआर हैं
कहे कलम क्या; सृजन करूँ ?
मैं ग़ज़ल लिखूँ  या गीत लिखूँ ?

जो नित नए रंग बदलते हों
पल पल में साथ बदलते हों
नूतन  परिधानों की मानिंद
हर दिन नव हाथ बदलते हों
उन अपनों को क्या लिखूँ?   
रकीब लिखूँ  या कि मीत लिखूँ   
मैं ग़ज़ल लिखूँ  या गीत लिखूँ ?

यहाँ मजनू भी हैं लैला भी
और  शीरी भी फरहाद भी
यहाँ फिरते दिल बिखरे-बिखरे
 सुन रहे हैं प्रेम जिहाद भी
इस चाहत को  क्या लिखूँ?   
मैं इश्क लिखूँ  या प्रीत लिखूँ  
मैं ग़ज़ल लिखूँ  या गीत लिखूँ ?

ये धर्म के बीच खड़ी होती
कभी दिलों बीच अड़ी होती
और कभी बनाती ताज महल
कभी बगड़ बीच खड़ी होती
इस वितरक को क्या लिखूँ  
दीवार लिखूँ  या भीत लिखूँ  
मैं ग़ज़ल लिखूँ  या गीत लिखूँ ?

कहीं मैदान  कहीं पहाड़ हैं
और फूलों भरी  कतार हैं
कहीं कहीं ठिठुरते हैं पीपल 
कहीं बर्फ ढके चिनार हैं  
इस मौसम को क्या लिखूँ?  
ऋतु शरद लिखूँ  या शीत लिखूँ  
मैं ग़ज़ल लिखूँ  या गीत लिखूँ  ?

कुछ पाया भी कभी खोया भी
कुछ काटा भी कुछ बोया भी
कभी खुशियों से दमका मुखड़ा
कभी अश्रुओं से धोया भी
इस जीवन को क्या लिखूँ?  
निज  हार लिखूँ  या जीत लिखूँ

  मैं ग़ज़ल लिखूँ  या गीत लिखूँ  ?
************************

12 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति है दीदी -
    सादर नमन-

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर रचना..........
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रशंसनीय रचना - बधाई
    शब्दों की मुस्कुराहट पर ....क्योंकि हम भी डरते है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुन्दर रचना..
    अति सुन्दर....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह सुन्दर रचना दिनांक 04.10.2013 को http://blogprasaran.blogspot.in/ पर लिंक की गयी है। कृपया इसे देखें और अपने सुझाव दें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रस्तुति ....!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (05-10-2013) को "माता का आशीष" (चर्चा मंच-1389) पर भी होगी!
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर प्रस्तुति आप जो भी लिखती हैं सुंदर ही होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आहा मजा आ गया , बरबस गुनगुनाने को जी चाहा....

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक के बाद एक, दोनों ही लिखिये, आनन्दप्रद।

    उत्तर देंहटाएं