यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 22 मार्च 2012

शहीद भगत सिंह



 देश भक्ति की पावन रज सेसुसज्जित भाल
रिपुहन्ता, सिंघस्वरूपा, भारत माँ का  लाल
अमर्त्यवीर ,पाषाण हिय और स्कंध विशाल  
 प्रहरी वीर, शूरवीर और शक्तिपुंज मशाल  |
असीम,अटल देशभक्ति का भुजंग विकराल  
 शूर ,शौर्यता ,पवन वेगता का जाँ बाज मराल |
छीन के हिन्दुस्तां के अंक से पछता रहा वो काल  
धन्य धरा के अमर सपूत हर माँ तुझपे निहाल ||

22 टिप्‍पणियां:

  1. इन वीरों की कुर्बानियों से हम जिन्दा है !
    बहुत-बहुत नमन !वीरों को याद करने के लिए ,आप को भी सलाम !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर.............
    आपकी यह रचना जन-जन तक पहुंचे...

    शहीदों को श्रद्धा सुमन.
    सादर..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. स्लाइड शो भी बढ़िया...
      शुक्रिया.

      हटाएं
  3. भगत सिंह ---- एक आदर्श धन्य धरा के अमर सपूत हर माँ तुझपे निहाल ||

    उत्तर देंहटाएं
  4. इन्ही की कुर्बानी की वज़ह से आज हम सुख की साँस ले पा रहे हैं .
    हालाँकि वर्तमान नेताओं ने इन्हें भुला सा दिया है .
    नमन .

    उत्तर देंहटाएं
  5. नमन शहीद भगत सिंह को ..... आज न जाने ऐसे लाल कहाँ पैदा होते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन रचना

    वीर शहीदों को सादर नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  7. शत्-शत् नमन...शहीद भगत सिंह को .

    उत्तर देंहटाएं
  8. hum bas yaad rakhein ki wo the isliye humara kal, aaj aur kal hai...yaad karne k liye aapko bhut aabhaar..!!

    bhut sundar shraddhanjali..!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!
    आपको नव सम्वत्सर-2069 की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. नव संवत्सर का आरंभन सुख शांति समृद्धि का वाहक बने हार्दिक अभिनन्दन नव वर्ष की मंगल शुभकामनायें/ सुन्दर प्रेरक भाव में रचना बधाईयाँ जी /

    उत्तर देंहटाएं
  11. रिपुहन्ता, सिंघस्वरूपा, भारत माँ का लाल ...

    बहुत सुंदर.... भाव... वाह!
    अमर शहीदों को सादर नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  12. यह एक अच्छी कविता है। वीर सपूत कविता में भी वीर भाव की मांग जायज़ ही करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  13. वीर शहीद की प्रतिष्ठा में बहुत ही सुन्दर रचना..
    देश पर मर -मिटनेवालो सभी शहीदों को शत- शत नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  14. नमन है देश के इन वीरों को ... जिनकी कुर्बानी कभी व्यर्थ नहीं जायगी ...
    ओज़स्वी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. ऐसे महान क्रांतिकारी शहीद को शत शत प्रणाम ...

    उत्तर देंहटाएं