यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 8 मार्च 2012

प्यारी बिटिया


                        प्यारी बिटिया
सुर्ख जोड़े में सजी प्यारी बिटिया
हीरे की कणी सबसे न्यारी बिटिया|
भाई बहनों की नटखट  दुलारी बिटिया
माँ बाबा के दामन की फुलकारी बिटिया |
सात फेरों की रस्मे निभा आई  बिटिया
कन्यादान से हुई पराई बिटिया |
मन में मंद- मंद हरषाई बिटिया
छुई मुई के जैसे शरमाई बिटिया |
जाकर पी का आँगन महकाई बिटिया
बस दो दिन सुख से बिताई बिटिया|
धन के पैमाने  से नपवाई बिटिया
ज़ार -ज़ार अश्रुओं से नहाई बिटिया !
दहेज़ कुण्ड के जख्मों में
सब सुख भूल गई बिटिया
एक दिन उसी सुर्ख जोड़े में
पंखे के गले में झूल गई बिटिया ||
*****

20 टिप्‍पणियां:

  1. दहेज़ कुण्ड के जख्मों में
    सब सुख भूल गई बिटिया
    एक दिन उसी सुर्ख जोड़े में
    पंखे के गले में झूल गई बिटिया ||

    बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन अभिव्यक्ति,....

    RESENT POST...फुहार...फागुन...

    उत्तर देंहटाएं
  2. kuch kuprathayen aaj bhi mere desh ko khaye ja rahi hai ...hriday dravit ho jata hai sunkar !!

    hum kitne arman sajate hai apni gudiya ke liye ..

    उत्तर देंहटाएं
  3. पढ़कर मन दर्द से भर गया...
    पता नहीं ये कुरीतियाँ कब मिटेंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रेम और स्नेह को कभी ऐसे निष्कर्ष न मिलें..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आँखें भीग गयीं ...जाने कब इन राक्षसों का अंत होगा...
    बहुत मार्मिक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  6. पता नहीं दहेज़-दानव के हाथो कब तक मरती रहेंगी बेटियां .
    विचलित करने वाले हालात हो गए हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...आँखें नम कर गयी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया हृदयस्पर्शी प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. very touching...when will we get rid off this social evil...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहद मार्मिक ... पर ऐसा बेटियों के साथ हो क्यों होता है .. जहां वे जाती हैं क्या वहाँ बेटियां नहीं होती ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर, अंतर्स्पर्शी रचना...
    सादर बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  12. ज़ार -ज़ार अश्रुओं से नहाई बिटिया !
    दहेज़ कुण्ड के जख्मों में
    सब सुख भूल गई बिटिया
    एक दिन उसी सुर्ख जोड़े में
    पंखे के गले में झूल गई बिटिया ||................marmik abhivyakti . yahdanav to na jane kitni bitiyon ko nigal gaya .badhai .

    sorry is bat late ho gayi aane me . blogging par nahi thi .

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स वीकली मीट (३४) में शामिल की गई है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /आप इसी तरह मेहनत और लगन से हिंदी की सेवा करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/03/34-brain-food.html

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत मर्मस्पर्शी और सटीक अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं