यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 28 फ़रवरी 2012

कब तक जलो


फर्ज के अलाव में कब तक जलो 
परछाई भी कहने लगी इधर चलो 
चन्दन से लिपट खुद को समझ बैठे चन्दन 
भ्रम जाल में खुद को कब तक छलो|
हम तो पानी पे तैरती लकड़ी हैं जनाब 
सागर भी कहता है अब यूँ ही गलो|
हंस- हंस के गले मिलते हैं जड़े काटने वाले 
फिर चलते हुए कहते हैं फूलों फलो |
ख़त्म हो चुका है कब से तेल बाती का
पर उनका  यही कहना है रात भर बलो|
 फर्ज के अलाव में कब तक जलो 
परछाई भी कहने लगी इधर चलो

18 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया राजेश जी...

    हंस- हंस के गले मिलते हैं जड़े काटने वाले
    फिर चलते हुए कहते हैं फूलों फलो |

    बहुत ही अच्छी लगी रचना..

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. फर्ज़ और परछाई ....सुंदर ताल-मेल !
    बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  3. हंस- हंस के गले मिलते हैं जड़े काटने वाले
    फिर चलते हुए कहते हैं फूलों फलो |

    मनुष्य की असली सच्चाई बयां कर दी .
    सुन्दर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत गहन अभिव्यक्ति ... जड़ काट कर फूलो फलो की कामना ... अच्छी लगी यह रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या कहूँ …………सच कहकर निशब्द कर दिया ……………दिल मे उतर गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. हर पंक्ति एक व्याख्या सी करती है ज़िन्दगी की…………बेहद उम्दा शानदार

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी रचना बहुत कुछ सिखा जाती है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर गहन
    भाव अभिव्यक्ति :-)
    बहुत ही बढ़िया .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. चन्दन से लिपट खुद को समझ बैठे चन्दन
    भ्रम जाल में खुद को कब तक छलो|
    bahut hi sunder likha hai ...!!
    badhai evam shubhkamnayen ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. चन्दन से लिपट खुद को समझ बैठे चन्दन ... bhram me kab tak jiyen

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी प्रस्तुति,इस निशब्द करती रचना के लिए बधाई,...

    MY NEW POST ...काव्यान्जलि ...होली में...

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह !

    बहुत ख़ुब कहा आपने…

    चन्दन से लिपट खुद को समझ बैठे चन्दन
    भ्रम जाल में खुद को कब तक छलो


    सच भी है, हम बहुत सारे भ्रम पाल बैठते हैं …

    और ऐसे दोहरे चरित्र के लोगों से भी पाला पड़ता ही रहता है…
    हंस- हंस के गले मिलते हैं जड़े काटने वाले
    फिर चलते हुए कहते हैं फूलो फलो


    बधाई अच्छी रचना के लिए
    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत खूब लिखा है,बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  14. u seem to be a source of inspiration... thak you for your beautiful expressions....

    उत्तर देंहटाएं