यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 13 फ़रवरी 2012

प्रेम दिवस प्रेम दिवस


प्रेम दिवस 
ख़त्म हो दिलो की कड़वाहट 
हर शख्स के चेहरे पे हो मुस्कुराहट 
                        तो प्रेम दिवस हो |
करते रहो प्रयास 
ना रहे कोई उदास 
सागर में हो मिठास 
                   तो प्रेम दिवस हो |
हर प्रीत में मधुरस हो 
हर बंधन भाव सरस हो 
एक प्रेम ही सर्वस्व हो 
               तो प्रेम दिवस हो |
हिय में पवित्रता का वास हो 
प्रतिज्ञा में दृढ विशवास हो
हर दिन यूँ ही ख़ास हो 
तो प्रेम दिवस हो |
सब को प्रेम दिवस मुबारक  

18 टिप्‍पणियां:

  1. आप की दुआ पूरी हो !
    सब को शुभकामनाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मधुर कामनाएं..

    आपको भी शुभकामनाएँ प्रेमदिवस की...

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेहतरीन प्रस्तुति... प्रेमदिवस की शुभकामनाएँ ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. करते रहो प्रयास
    ना रहे कोई उदास
    सागर में हो मिठास
    तो प्रेम दिवस हो |...............hamesha ki tarah khubsurat .prem ki bhavna ....aapko hamari shubhkamna .

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर विचार हैं ....आपको भी शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्रेम की धारा बहा दी आपने । शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्यार की खुबसूरत अभिवयक्ति........

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी रचना,प्यार की सुंदर प्रस्तुति

    MY NEW POST ...कामयाबी...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सभी प्रेम से परिपूर्ण हों, सभी प्रसन्न रहें..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर... प्रेमपगी अभिव्यक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. हर बंधन भाव सरस हो
    एक प्रेम ही सर्वस्व हो
    तो प्रेम दिवस हो |
    हिय में पवित्रता का वास हो
    प्रतिज्ञा में दृढ विशवास हो
    हर दिन यूँ ही ख़ास हो
    तो प्रेम दिवस हो |

    wah kya khoob likha hai .....pavitrta ke bina sachhe prem ki kalpan karan vyarth hai ....bahut hi sundar rekhankan .....sadar badhai.

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेम दिवस के असली मायने समझाती रचना ... मज़ा आ गया ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. इतिहास का अवलोकन अतीत से होता हुआ वर्तमान की कभी रैखिक कभी क्षैतिज कभी तिभुजाकर कभी आवृत्ति में कई मानसिक कोण बनाने पर मजबूर कर देता है.क्या करें यह मिमान्षा की विडंबना ही है,अतीत का विश्मरण कैसे संभव है?वह तो आत्मा है जो देह रूप में व्यक्त कर रही है .हम सभी की सदिच्छाओं की सम्पूर्ति एवं उसकी अभिव्यक्ति ही लोकतंत्र का श्रृंगार तत्व है .प्रभुसत्ताधारी हमारी सदिच्छाओं की अभिव्यक्ति है.अगर वह स्वयम को अधिष्ठाता मान बैठे?यह उस प्रभुसत्ताधारी का दोष है न की सदिच्छाधारियों का?लोक परम्परा एवं इतिहास परस्पर अंतक्रिया करते रहते है .यह भिन्न- भिन्न अवसरों पर दीखता भी है.राजश्र्यी इतिहास की भित्ति इतनी कमजोर होती है की वह लोक परम्परा का तत्व नहीं बन पाती,इतिहास समग्रता में होता है जो जनश्रयी होता है. तभी तो परम्पराएं संसृत की सरिता बन भिन्न-भिन्न भौगौलिक क्षेत्रों एवं विविधता में संस्कृति को जीवंत किये है.यह सही है की प्रभुसत्ताधारी को जनइच्छाधारी अपनी उपस्थिति दिखातें रहें,कभी शाबाशी,कभी उपहास,कभी आलोचन ताकि प्रभुसत्ताधारी निरंकुश न हो ना ही जैनैतिहास के साथ छेड छाड कर सकने का दुस्साहस कर सके ............सादर

    उत्तर देंहटाएं