यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 23 जनवरी 2012

देखो शिखर सम खड़ा हुआ


यह कविता उन माता पिता के नाम जिन्होंने सर्व प्रथम बालिका शिक्षण की शुरुआत की !

सकुचाया सा डरा डरा
अनचाहा सा मरा मरा
कम्पित काया, भीरु मन
जाने कब हो जाए हनन
सघन तरु की छाया में
इक नन्हा पौधा खड़ा हुआI
कितने ही बवंडर आये
उसके वजूद तक पंहुच ना पाये
तरु का आलंबन कड़ा हुआ
जड़ों से पीकर उसका क्षीर 
धीरे धीरे बड़ा हुआ
इक नन्हा पौधा खड़ा हुआI
   
                बीते कितने पतझड़ ,बसंत
हुआ कद उसका और बुलंद
खुशबु उसकी यूँ महकाए
पंवरी ,चन्दन भी शर्माएI
अरि आलोचक मूक बनाये
अपने दम पर अड़ा हुआ
इक नन्हा पौधा खड़ा हुआ I
फिर काल चक्र सम्पूर्ण हुआ
सघन तरु तन जीर्ण हुआ
फट गई काया मिट गया तन
पर मन में ना कोई चुभनI
कहाँ भीरुता ,दुर्बल तन
अब बन गया वो तरु सघन
मेरी धरोहर मेरा वंश
उसके ही दम से चला हुआ
वो देखो शिखर सम खड़ा हुआI
मेरा नन्हा पौधा,
मुझसे भी कद में बड़ा हुआ
मुझसे भी कद में बड़ा हुआ II
*****

27 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया रचना!
    काश हम भी पादप हो जाते।
    सब कुछ सहते फिर भी फल देते।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कमाल की प्रेरक प्रस्तुति है आपकी.
    पढकर मन प्रसन्न हो गया है.
    आभार.

    मेरे ब्लॉग पर भी आईयेगा जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेरक प्रस्तुति...बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति ।
    जीवन चक्र को सार्थकता देती हुई रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सार्थक अभिव्यक्ति सुंदर रचना,बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    उत्तर देंहटाएं
  6. इसी तरह पौधा खुद से बड़ा हो जाता है , काला टीका लगाते हैं - नज़र ना लगे

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहूत सुंदर प्रेरक अभिव्यक्ती है ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. मेरा नन्हा पौधा,
    मुझसे भी कद में बड़ा हुआ
    प्रेरक,सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूबसूरत रचना .. नन्हा पौधा यूँ ही डटा रहे ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. जिस पौधे को छाँव बनना हो, उसे हर प्रकार का पोषण मिले..

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर और उत्तम भाव लिए हुए.... खूबसूरत रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेरक रचना ... पौधों को बढते देखना कितना सुखद लगता है ... उत्तम भाव ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक माँ के लिये सुखद अहसास कराती सुन्दर कविता।
    निश्चित ही सराहनाय.....
    कृपया इसे भी पढ़े-
    क्या यही गणतंत्र है

    उत्तर देंहटाएं
  14. ख़ूबसूरत, सार्थक एवं प्रेरक प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  15. कहाँ भीरुता ,दुर्बल तन
    अब बन गया वो तरु सघन
    मेरी धरोहर मेरा वंश
    उसके ही दम से चला हुआ
    वो देखो शिखर सम खड़ा हुआI
    मेरा नन्हा पौधा,
    मुझसे भी कद में बड़ा हुआ
    मुझसे भी कद में बड़ा हुआ II
    ***** BAHUT HI SUNDAR PRASTUTI ......HR AK ICHHA HOTI HAI APNE PAUDHE KA KAD BADA DEKHNE KI ....LEKIN BHAGYSHALI LOG HI DEKH PATE HAIN ....APKI BAHWANON AUR LEKHNI KO BADHAI....HAN MERE POST PR APKA AMNTRAN HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुंदर प्रस्तुति,भावपूर्ण अच्छी पंक्तियाँ, रचना अच्छी लगी

    WELCOME TO NEW POST --26 जनवरी आया है....

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं
  17. very nice.
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  18. कविता अच्छी बन पड़ी है। हर मौलिक प्रयास को उसका मान दिया ही जाना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत प्यारी रचना है.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  20. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  21. Bahur sundar rachna ..
    protsaahit karte bhaav.. bahut achha laga padhke.. :)


    kabhi waqt mile to mere blog par bhi aaiyega.. apka swaagat hai..
    palchhin-aditya.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं