यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 5 जनवरी 2012

परहित धरम परम सुखदाई

                 

                                                                  (१ )
सुनकर संतों की वाणी 
मैं प्रभु की अभिलाषी हो गई 
पीकर कटु दुखों का गरल 
मैं कितनी मृदुभाषी हो गई !!
(२ )
देख पराई पीर मैं अपनी 
नाव का चप्पू छोड़ गई 
नजर थी जिसकी तुझपर 
उस तूफाँ का रुख मोड़ गई!! 
(३)
मैं ,मेरा ,अहम् सब छोड़ा 
एक प्रभु से नाता जोड़ा 
अहम् सदा विवेक को हरता 
परहित धरम संतुष्टि करता !!
(४) 
परहित सम धरम नहीं कोई 
तुम भी समझ जाओगे 
पौंछ के देखो अश्रु किसी के 
प्रभु को निकट पाओगे !!
(५ )
एक दिन खोजूंगी उसको 
यह प्रभु की इच्छा पूर्ण हुई 
पाकर अपने  ही दिल में 
जीवन गाथा सम्पूर्ण हुई !!

21 टिप्‍पणियां:

  1. Awesome creation , but the opening couplets are just superb !..Hats off Rajesh ji !
    Vandematram !

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुसरे पर उपकार करने से बड़ा कोई धरम नही,...
    बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर रचना......
    welcome to new post--जिन्दगीं--

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह...अद्भुत रचना है आपकी...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर ,सार्थक और अनुकरणीय सन्देश ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर और अनुकरणीय सन्देश

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुनकर संतों की वाणी
    मैं प्रभु की अभिलाषी हो गई
    पीकर कटु दुखों का गरल
    मैं कितनी मृदुभाषी हो गई !!
    aap mridu bhaashee banee rahein
    hai duaa hamaaree

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर और अनुकरणीय सन्देश|

    उत्तर देंहटाएं
  8. पीकर कटु दुखों का गरल
    मैं कितनी मृदुभाषी हो गई !!

    बहुत सुन्दर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहूत सुंदर और सार्थक संदेश देती उत्तम रचना है...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिलकुल सत्य प्रभु तो दिल में ही रहता है ...बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  11. किसी की मुस्कराहटों पे हो निसार...जीना इसी का नाम है...

    उत्तर देंहटाएं
  12. दूसरों के लिए जीना ही वास्तव में जीना है।
    प्रेरक रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  13. परहित सम धरम नहीं कोई
    तुम भी समझ जाओगे
    पौंछ के देखो अश्रु किसी के
    प्रभु को निकट पाओगे ...

    सच है दूसरे के आँखों के आंसू पौंछने पर परम सुख मिलता है ...
    सुन्दर भाव पूर्ण रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 09-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  15. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 09-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  16. मैं तुझे मिल जाऊंगा, तू बस मैं को भूल
    मेरी खातिर हैं बहुत , श्रद्धा के दो फूल.

    जिस दिन स्वयम् से परिचय होने की शुरुवात होती है उस दिन से ही उसकी सत्ता में मानव का प्रवेश होता है, बहुत बहुत स्तरीय रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  17. बेहद ख़ूबसूरत एवं उम्दा रचना ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  18. नैतिक शिक्षा पर आधारित सुन्दर रचना निश्चित ही
    अनुकरणीय हैं।

    उत्तर देंहटाएं