यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 8 जुलाई 2013

कुछ व्यंगात्मक उलटबाँसियाँ (दोहे )

सच्चाई पर चढ़ गई ,झूठी कपटी भीड़
|
झीलें कौवों से अटी ,सत हंसों से नीड़||

सागर नदियों में मिले,घन बरसायें आग |

टर्र टर्र  मानव  करे ,मेढ़क  खेलें फाग||

जला रहे पटबीजने ,भव्य ऊँचे  मकान|

खोद रही अब चींटियाँ ,कोयले की खदान||

अब छिपकलियों से सजे ,लाल-लाल कालीन|

राज यहाँ गिरगिट करें ,लगे बहुत शालीन||


मधुशाला में बैठ के ,मद्य पी रही मीन|

नागिन की फुफकार पे ,नाच रही है बीन ||

दादी चढ़ी पहाड़ पर ,लेकर कुन्टल भार|

खड़ा युवक ये सोचता ,मुश्किल चढ़ना यार||

जहां तहां करके  खनन ,भू पट दिए उघाड़ |

अब अंतर में खींचती , रो ले  मार दहाड़||

कब तक मानव स्वार्थ का ,सहती रहती  वार| 

झेल सके तो झेल अब ,प्राकर्तिक  तलवार ||

हे दम्भी मानव तुझे ,कब होगा आभास |

नहीं कभी तेरी प्रकृति ,तू है उसका दास||  

***************************************   

15 टिप्‍पणियां:

  1. हे दम्भी मानव तुझे ,कब होगा आभास |
    नहीं कभी तेरी प्रकृति,तू है उसका दास||

    बहुत उम्दा सटीक दोहे प्रस्तुति,,,

    RECENT POST: गुजारिश,

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह , बहुत सुंदर, किया खूब कहा है एक एक पंक्ति को,शुभकामनाये

    यहाँ भी पधारे ,
    रिश्तों का खोखलापन
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति .सच्चाई को शब्दों में बखूबी उतारा है आपने आभार इमदाद-ए-आशनाई कहते हैं मर्द सारे आप भी जानें संपत्ति का अधिकार -5.नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN हर दौर पर उम्र में कैसर हैं मर्द सारे ,

    उत्तर देंहटाएं
  4. मस्त है उलट-बासियाँ -
    आभार दीदी-

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन तंज़

    पधारिये और बताईये  निशब्द

    उत्तर देंहटाएं
  6. कबीर की उलटबाँसियाँ याद दिला दीं आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुंदर लिखती हैं बहुत, दिल छू लेते व्यंग |
    हास्य-व्यंग्य की भावना, मिल बांटे सब संग |

    उत्तर देंहटाएं
  8. दी आपने तो कुछ उल्टी गंगा बहाय
    कलयुग है अब कौन किसे समझाये

    उत्तर देंहटाएं
  9. ulti ulti mat kaho ulti rahi dikhay,antar netra niharate raha yahi dikhalay. (sahi dohe)

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  11. सटीक व्यंगात्मक दोहे आपकी कलम से ... बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं