यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 27 जनवरी 2013

कर्म किये जा (छंद त्रिभंगी)


(1)निश्शंक  जिए जा कर्म किये जा , ,फल की मत कर ,अभिलाषा 
भगवन सब जाने ,सब पहचाने , कृपा करेंगे   ,रख आशा 
कर मनन निरंतर ,हिय अभ्यंतर,तन मन सुख की ,परिभाषा
पर लोभ  बुरा हैक्षोभ  बुरा है,   पर मन  जीते   ,  मृदु  भाषा 

(2)शिव हरि  नाम भजो ,मद बिषय तजो ,जितेंद्रिय नाम,सुख पाओ 
भज  दुर्गे अम्बामाँ जगदम्बा ,मातु रूप  नौ  ,   तुम  ध्याओ 
हृदय से  सम्मान, शक्ति  सा मान , कर नारी  kaको  , दिख लाओ   
देवों   का प्यारा  ,मात्र   दुलारा  , जन   संस्कारी    ,हो जाओ  

*******************************************************************************

11 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया छंद -
    बढ़िया प्रस्तुति ||
    शुभकामनायें आदरेया ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यारी भाषा, प्यारा व्यवहार..सबको प्रिय होता है..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर संदेश देते त्रिभंग..

    उत्तर देंहटाएं

  4. वाह ,बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं