यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 17 अप्रैल 2012

पिघलते हिमनद



सो रही है दुनिया सारी
तुम हर पल क्यूँ सजग रहे 
कौन व्यथा है दबी हिय में 
किस अगन में संत्रस्त रहे |
घूर रहे क्यूँ रक्तिम चक्षु 
कुपित अधर क्यूँ फड़क रहे 
दावानल से केश खुले क्यूँ 
तन से शोले भड़क रहे |
प्रदूषण ने ध्वस्त किये 
जो, बहु  तेरे संबल रहे 
कतरा -कतरा टूट-टूट कर 
चुपके -चुपके पिघल रहे |
हे हिमगिरी,हे हिमनद   
पिघलते रहे जो 
यूँ ही अप्रतिहत      
प्रलय  भयावही आएगी  
जगत  जननी, पावन  धरिणी 
सब  जल  थल  हो  जायेगी |  
कष्ट निवारक ,विपदा हारक
हे  जगदीश ,हे  त्रिपुरारी 
उसे  जगा दो अपने बल से 
सो रही जो दुनिया सारी|
   *****
.   






    

























































30 टिप्‍पणियां:

  1. काश की जाग जाये हम..............
    और बचा लें इस धरा को........

    सुंदर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिम व्यथित है, नित बहाता अश्रु रह रह।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कष्ट निवारक ,विपदा हारक
    हे जगदीश ,हे त्रिपुरारी
    उसे जगा दो अपने बल से
    सो रही जो दुनिया सारी|

    isi prarthana me shamil ho gaye ham ...bhi ....!!
    bahut sunder rachna ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. कष्ट निवारक ,विपदा हारक
    हे जगदीश ,हे त्रिपुरारी
    उसे जगा दो अपने बल से
    सो रही जो दुनिया सारी|
    --
    बहुत सुन्दर भावप्रणव रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वक्त रहते जाग गए तभी हम बचेंगे...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक सन्देश देती रचना .
    चिंतनीय विषय .

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी कविता
    कलमदान

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर अभिव्यक्ति,बेहतरीन सार्थक सन्देश देती रचना,...

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: कवि,...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कतरा -कतरा टूट-टूट कर
    चुपके -चुपके पिघल रहे |...............waah bahut sunder abhivyakti .shabdo ko sunder himnad . bahut khoobsurat laga . jindagi ke tar se juda hua prakrurti ka bhi sunder shabdik srajan . hardik badhai aapko

    उत्तर देंहटाएं
  10. ये जीवन दायिनी सरितायें ,हिम-नदों की ही ऋणी हैं पर मानव की अति,भविष्य का विचार किये बिना सबको त्रस्त कर रही है1 .

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये दुनिया सच में सो रही है ... जब महाप्रलय आएगी तब कुछ भी शेष नहीं रहेगा ... जागरूक करती है आपकी पोस्ट ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.अच्छा लगा पढ़ना.

    उत्तर देंहटाएं
  13. पिघलते रहे जो
    यूँ ही अप्रतिहत
    प्रलय भयावही आएगी बहुत बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  14. सच में हम पर्यावरण को नष्ट-भ्रष्ट करके सो ही रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. कष्ट निवारक ,विपदा हारक
    हे जगदीश ,हे त्रिपुरारी
    उसे जगा दो अपने बल से
    सो रही जो दुनिया सारी|
    भावों का अनूठा संगम ...बहुत बढि़या।

    उत्तर देंहटाएं
  16. माफ़ी चाहूंगी आप के ब्लॉग मे आप की रचनाओ के लिए नहीं अपने लिए सहयोग के लिए आई हूँ | मैं जागरण जगंशन मे लिखती हूँ | वहाँ से किसी ने मेरी रचना चुरा के अपने ब्लॉग मे पोस्ट किया है और वहाँ आप का कमेन्ट भी पढ़ा |मैंने उन महाशय के ब्लॉग मे कमेन्ट तो किया है मगर वो जब चोरी कर सकते है तो कमेन्ट को भी डिलीट कर सकते है |मेरा मकसद सिर्फ उस चोर के चेहरे से नकाब उठाने का है | आप से सहयोग की उम्मीद है | लिंक दे रही हूँ अपना भी और उन चोर महाशय का भी, इन्होने एक नहीं मेरी चार रचनाओ को अपने नाम से अपने ब्लॉग मे पोस्ट किया है
    http://div81.jagranjunction.com/author/div81/page/4/


    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.in/2011/03/blog-post_557.html

    उत्तर देंहटाएं
  17. अफसोस,कि भावी पीढ़ियों को हमारे कारण वह सब भुगतना होगा जिसके लिए ज़िम्मेदार हम हैं,वे नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. पर्यावरणीय जागरूकता जगाती सुंदर पोस्ट । चेतना जरूरी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्रदूषण ने ध्वस्त किये
    जो, बहु तेरे संबल रहे
    कतरा -कतरा टूट-टूट कर
    चुपके -चुपके पिघल रहे |
    पिघलते रहे जो
    यूँ ही अप्रतिहत
    प्रलय भयावही आएगी
    जगत जननी, पावन धरिणी
    सब जल थल हो जायेगी |
    फिर कोई मनु दोहराएगा -हिमगिरी के उत्तुंग शिखर पर ,बैठ शिला की शीतल छाँव

    एक पुरुष भीगे नयनों से देख रहा था ,प्रलय प्रवाह .

    *****

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी द्रुत टिपण्णी हमारी धरोहर बनके आती है .इस पोस्ट के लिए आपकी सटीक टिप्पणियों के लिए आभार .

    उत्तर देंहटाएं
  21. पर्यावरण के प्रति जागरुक करती उत्तम रचना.

    उत्तर देंहटाएं