यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 12 अप्रैल 2011

मुझको दुनिया में आने दो


मैं तेरी धरा का बीज हूँ माँ
मुझको पौधा बन जाने दो
नहीं खोट कोई मुझमे ऐसा
मुझको दुनिया में आने दो
.
मैं तेरे मातृत्व का सन्मान
नहीं कोई शगल का परिणाम
मेरा अस्तित्व तेरा दर्प है
मुझमे निहित सारा संसार .

गहन तरु की छाया में
लघु अंकुर को पनपने दो
नहीं खोट कोई मुझमे ऐसा
मुझको दुनिया में आने दो .

जंगल उपवन खलियानों में
हर नस्ल के पुहुप महकते हैं
स्वछंद परिंदों के नीड़ो में
दोनों ही लिंग चहकते हैं .
प्रकर्ति के इस समन्वय का
उच्छेदन मत हो जाने दो
नहीं खोट कोई मुझमे एसा
मुझको दुनिया में आने दो .

समाज की घ्रणित चालों से माँ
तुझको ही लड़ना होगा
नारी अस्तित्व के कंटक का
मूलोच्छेदन करना होगा .
तेरे ढूध पर मेरा भी हक है
दुनिया को ये समझाने दो
नहीं खोट कोई मुझमे ऐसा
मुझको दुनिया में आने दो ..


मुझको दुनिया में आने दो

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत संवेदनशील रचना ...सन्देश देती हुई ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया!
    इसी तरह की एक रचना मंने भी पिछले वर्ष लिखी थी!
    "माँ मुझको भी तो अपनी दुनिया में आने दो!"

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह पहली बार पढ़ा आपको बहुत अच्छा लगा.
    आप बहुत अच्छा लिखती हैं और गहरा भी.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ..बहुत ख़ूबसूरत...ख़ासतौर पर आख़िरी की पंक्तियाँ....मेरा ब्लॉग पर आने और हौसलाअफज़ाई के लिए शुक़्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  5. aaj ke samaj ka kitna kathor saty.....kitni saralta ke saath likh din...wah.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सशक्त रचना!
    बैसाखी के साथ अम्बेडकर जयन्ती की भी शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं