यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 20 अप्रैल 2011

नारी एक कठपुतली

  जीवन के रंगमंच पर मैं हुनर दिखाने आई हूँ 
                        जो किरदार दिया प्रभु ने उसे निभाने आई हूँ !
                        कभी बेटी ,कभी भार्या कभी जननी बन इठलाई हूँ 
                        जो किरदार दिया प्रभु ने उसे निभाने आई हूँ !
      कभी करुण कभी रौद्र कभी श्रृंगार रस में नहाई हूँ
      कभी चढ़ती ख़ुशी की धूप कभी सुलगती गम की धूप 
      हर हाल में मुस्काई हूँ !
      जो किरदार दिया प्रभु ने उसे निभाने आई हूँ !  
                         जो मन में है वो कहती हूँ जो दिल में है वो लिखती हूँ 
                         हर्दय के उद्द्गारों पर मेरा न कोई जोर है 
                         मैं तो मात्र कठपुतली हूँ 
                         उसके हाथ में मेरी डोर है !!      

4 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ...! शुभकामनायें आपके लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेशक नारी को कठपुतली कहा जाता है ..लेकिन वास्तविकता में ऐसा नहीं है .....आपका आभार इस सार्थक रचना के लिए ..!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" शनिवार 22 अक्टूबर 2016 को लिंक की जाएगी .... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद! .

    उत्तर देंहटाएं