यह ब्लॉग खोजें

गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

फर्क बस इतना है


तुमने इकरार किया पलकें झुकाकर 
हमने इजहार किया नजरें मिलाकार!
तुम ज़माने से कुछ कह नहीं सकते 
हम मगर चुप रह नहीं सकते !
तुम दर्द को  घूँट घूँट पी जाते हो 
हम एक पल सह नहीं सकते !
तुम ख़्वाबों में जी लेते हो 
हम तुम बिन जी नहीं सकते !
फर्क बस इतना है !!

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!
    तुम ख़्वाबों में जी लेते हो
    हम तुम बिन जी नहीं सकते !
    फर्क बस इतना है !!

    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं