यह ब्लॉग खोजें

रविवार, 10 अगस्त 2014

रक्षाबंधन विशेष (माहिया विधा पर आधारित)

ऋतु बड़ी सुहानी है 
घर आ जा बहना 
राखी बँधवानी है ||
अम्बर पे बदरी है 
भैया आ जाओ 
तरसे मन गगरी है |
बहना अब दूरी है 
कैसे आऊँ मैं 
मेरी मजबूरी है ||
कोई मजबूरी ना
आ न सको भैया 
इतनी भी दूरी ना ||
नखरे थे वो झूठे 
मैं आ जाऊँगा 
बहना तू क्यूँ रूठे |
परदेश बसी बहना 
रक्षा बंधन है 
बस तेरा खुश रहना |
चंदा भी मुस्काया 
राखी बँधवाने 
प्यारा भैया आया ||
पूजा की थाली है 
हल्दी का टीका 
राखी नग वाली है ||
राखी तो बांधेगी 
मुँह करके मीठा 
तू नेग भी मांगेगी ||
आगे कलाई करो 
नेग न मांगू मैं
बस सिर पे हाथ धरो||
---------

8 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद उम्दा और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ
    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज मंगलवारीय चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपका ब्लॉग देखकर अच्छा लगा. अंतरजाल पर हिंदी समृधि के लिए किया जा रहा आपका प्रयास सराहनीय है. कृपया अपने ब्लॉग को “ब्लॉगप्रहरी:एग्रीगेटर व हिंदी सोशल नेटवर्क” से जोड़ कर अधिक से अधिक पाठकों तक पहुचाएं. ब्लॉगप्रहरी भारत का सबसे आधुनिक और सम्पूर्ण ब्लॉग मंच है. ब्लॉगप्रहरी ब्लॉग डायरेक्टरी, माइक्रो ब्लॉग, सोशल नेटवर्क, ब्लॉग रैंकिंग, एग्रीगेटर और ब्लॉग से आमदनी की सुविधाओं के साथ एक सम्पूर्ण मंच प्रदान करता है.
    अपने ब्लॉग को ब्लॉगप्रहरी से जोड़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें http://www.blogprahari.com/add-your-blog अथवा पंजीयन करें http://www.blogprahari.com/signup .
    अतार्जाल पर हिंदी को समृद्ध और सशक्त बनाने की हमारी प्रतिबद्धता आपके सहयोग के बिना पूरी नहीं हो सकती.
    मोडरेटर
    ब्लॉगप्रहरी नेटवर्क

    उत्तर देंहटाएं
  4. नेग ना माँगूँ मैं बस सिर पे हाथ धरो।

    सच्चे प्यार की अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं