यह ब्लॉग खोजें

शनिवार, 21 जून 2014

सरस्वती वंदना (उल्लाला छंद पर आधारित)

हे माँ श्वेता शारदे विद्या का उपहार दे|
श्रद्धानत हूँ प्यार दे मति नभ को विस्तार दे||
तू विद्या की खान है ,जीवन का अभिमान है|
भाषा का सम्मान है ,ज्योतिर्मय वरदान है||
नव शब्दों को रूप दे ,सदा ज्ञान की धूप दे|
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे||
कमलं पुष्प विराजती ,धवलं वस्त्रं  शोभती|
वीणा कर में साजती ,धुन आलौकिक बाजती||
विद्या कलष अनूप दे,आखर-आखर कूप दे
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे||
निष्ठा तू विश्वास तू ,हम भक्तों की आस तू|
सद्चित्त का आभास तू ,करती तम का ह्रास तू||
तम सागर से तार दे ,प्रज्ञा का आधार दे|
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे||
वाणी में तू रस भरे ,गीतों  को समरस करे|
जीवन को  रोशन करे
,तुझसे ही माँ तम डरे||
रस छंदों का हार दे ,कविता ग़ज़ल हजार दे|
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे||
जिस को तेरा ध्यान है 
,मन में तेरा मान है|
तेरे तप का  भान है ,मानव वो विद्वान है||
जीवन में मत हार दे ,भावों में उपकार दे|
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे||
धवल हंस सद् वाहिनीनिर्मल सद्मति  दायिनी|
           जड़ मति विपदा हारिणी ,भव सागर तर तारिणी||                                                                                 सब कष्टों से तार दे,शिक्षा का भण्डार दे|
हे माँ श्वेता शारदे ,विद्या का उपहार दे||
हे माँ श्वेता शारदेश्रद्धानत हूँ प्यार दे||
**************** ,

              








10 टिप्‍पणियां:

  1. अदभुत सरस्वती बंदना ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आंतरिक शक्ति का संचार करने वाली सुंदर वंदना।।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ सरस्वती को नमन..सुंदर वन्दना

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस' प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (24-06-2014) को "कविता के पांव अतीत में होते हैं" (चर्चा मंच 1653) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  5. माँ शारदेय की सुन्दर स्तुति प्रस्तुति के लिए आभार!
    माँ के चरणों में नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई मेरी

    नई पोस्ट
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर सरस्वती वंदना...

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक बार जरा आप इस लिंक का भी अवलोकन कर लें .... कुछ आवशयक कारणों से ऐसा मुझे करना पड़ रहा है ... आशा है आप अन्यथा नहीं लेंगे .... http://www.chalte-chalte.com/2014/06/blog-post_25.html

    उत्तर देंहटाएं