यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 16 दिसंबर 2013

वार्षिक रिपोर्ट (लघु कथा )

"देखो-देखो दमयंती, तुम्हारे शहर के कारनामे!! कभी कोई अच्छी खबर भी आती है, रोज वही चोरी, डकैती ,अपहरण ...और एक तुम हो कि शादी के पचास साल बाद भी मेरा शहर मेरा शहर करती नहीं थकती हो अब देखो जरा चश्मा ठीक करके टीवी में क्या दिखा रहे हैं" कहते हुए गोपाल दास ने चुटकी ली।
"
हाँ-हाँ जैसे तुम्हारे शहर की तो बड़ी अच्छी ख़बरें आती हैं रोज, क्या मैं देखती नहीं थोडा सब्र करो थोड़ी देर में ही तुम्हारे शहर के नाम के डंके बजेंगे" दादी के कहते ही सब बच्चे हँस पड़े और उनकी नजरें टीवी स्क्रीन पर गड़ गई। 
साल के अंतिम सप्ताह में वार्षिक रिपोर्ट में सभी शहरों की वारदातें ,उपलब्धिया चल रही थी अतः उनके कौतुहल का ये रोज मर्रा का विषय था जो दादा-दादी के आदेशानुसार हिसाब भी रखते थे कि किसके शहर की आज अच्छी खबर आई है ।
तभी स्क्रीन पर दादा जी के शहर का नाम उभरा---- इस शहर में इस वर्ष ऐड्स के मरीजों की संख्या घट कर कुल इतनी रह गई है,दादा जी ने बच्चो से दृष्टि बचाकर दादी की तरफ गर्वीली मुस्कान के साथ देखा।
कुछ और शहरों के लेखा-जोखा दिखाने के बाद फिर दादा जी के शहर का नाम आया तो सबके कान खड़े हो गए ...अभी-अभी एक मुख्य सूचना मिली है कि इस शहर में नाबालिग के साथ बलात्कार की तीन दिनों में एक आठवीं वारदात को अंजाम दिया गया है। सुनते ही कमरे में सन्नाटा छ गया। तेरह वर्षीया गुड्डी नीची नजरे किये चुपचाप कमरे से बाहर आ गई।
*********************************************************************

9 टिप्‍पणियां:

  1. अब तो ऐसे ही खबरे देखने और सुनने को मिलते है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. मार्मिक प्रसंग लिए है लघु कथा। रोज़ की घटना है यहाँ बलात्कार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सशक्त लघु कथा परिवेश संसिक्त कथानक।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये बहुत ही कष्टप्रद होता जा रहा है...पहले कम से कम समाचार तो पूरा परिवार साथ देख लेता था...मीडिया बच्चों में अवेयरनेस भी ला रहा है...सशक्त मर्मस्पर्शी लघु कहानी...

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक सशक्त और मन को छूती लघु मगर बेहद गंभीर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं