यह ब्लॉग खोजें

सोमवार, 20 मई 2013

यूँ ही कभी-कभी सोचती हूँ


(1)
जहां कदमो के निशाँ बनते थे
वो माटी  रही इस शहर में
दोस्तों ,कहाँ से गुजरेंगे
कोई कैसे ढूँढेगा ?? 
(2)
वो दरक का दर्द क्या जाने
जिसने जिन्दगी में कभी आईना  नहीं देखा। 
हर शहर आसमाँ छूने की होड़ में है
जमीं खफ़ा हो गई तो क्या होगा ??
(३)
जानती हूँ हम नदी के दो किनारे हैं
 फिर भी आग उस पार जलती है
तो धुआं इस पार उठता है
 जाने क्यों??
( )
वक़्त भागता है तो पकड़ने के लिए
पीछे भागती हूँ वक़्त मिलता है तो खुद से भागती हूँ
उफ्फ कैसी विडंबना है बड़े मनमानी करने लगे हैं
आजकल ये मेरे अस्तबल के घोड़े !!!
( )
लगता है मकान 
मालिक बदल गया 
आजकल उन रोशनदानो में 
कबूतर दिखाई नहीं देते 


***************************************


19 टिप्‍पणियां:

  1. राजेश जी बहुत बढ़िया ... आभार

    वक़्त भागता है तो पकड़ने के लिए
    पीछे भागती हूँ वक़्त मिलता है तो खुद से भागती हूँ
    उफ्फ कैसी विडंबना है बड़े मनमानी करने लगे हैं
    आजकल ये मेरे अस्तबल के घोड़े !!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन भारत के इस निर्माण मे हक़ है किसका - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  3. जानती हूँ हम नदी के दो किनारे हैं
    फिर भी आग उस पार जलती है
    तो धुआं इस पार उठता है
    न जाने क्यों??-bahut khub

    latest postअनुभूति : विविधा
    latest post वटवृक्ष

    उत्तर देंहटाएं
  4. वो दरक का दर्द क्या जाने
    जिसने जिन्दगी में कभी आईना नहीं देखा।
    हर शहर आसमाँ छूने की होड़ में है
    जमीं खफ़ा हो गई तो क्या होगा ??........बह्त बढिया..

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी यह रचना कल मंगलवार (21 -05-2013) को ब्लॉग प्रसारण के "विशेष रचना कोना" पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता और दर्शन जहाँ संयुक्त हो जाएँ वहाँ की थाह बड़ी कठिन होती है !

    उत्तर देंहटाएं
  7. भावनाओं को आयाम देती सुन्दर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. परिपक्व विचारों का कीमती गुलदस्ता.......

    उत्तर देंहटाएं
  9. वो दरक का दर्द क्या जाने
    जिसने जिन्दगी में कभी आईना नहीं देखा।
    हर शहर आसमाँ छूने की होड़ में है
    जमीं खफ़ा हो गई तो क्या होगा ??

    बहुत गहन भाव लिए मुक्तक ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जानती हूँ हम नदी के दो किनारे हैं

    फिर भी आग उस पार जलती है

    तो धुआं इस पार उठता है

    न जाने क्यों??...

    दो किनारे ही सही .. मिल न पाए तो क्या ... एक ही तरलता से, एक ही नमी से बंधे तो हुए हैं दोनों ... दर्द भरी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. वो दरक का दर्द क्या जाने
    जिसने जिन्दगी में कभी आईना नहीं देखा।
    हर शहर आसमाँ छूने की होड़ में है
    जमीं खफ़ा हो गई तो क्या होगा ??
    गहन भाव लिये मन को छूती पोस्‍ट
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  12. नदी के दो किनारे .उस पार जलती आग और इसओर तक आता धुँआ ...वाह बहुत ही दिल को छू लेने वाली कविता है ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. साथ समय के, कभी समय के आगे आगे,
    जितना मन ने उकसाया, हम उतना भागे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. राजेश जी, दिल से निकली हुई इन सुंदर पंक्तियों के लिए बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  15. जहां कदमो के निशाँ बनते थे
    वो माटी न रही इस शहर में
    दोस्तों ,कहाँ से गुजरेंगे
    कोई कैसे ढूँढेगा ??..............लगता है माकन मालिक बदल गया है ...जमी खफा हो गयी तो का होगा ...? बेहतरीन बेहतरीन बेहतरीन

    उत्तर देंहटाएं
  16. जहां कदमो के निशाँ बनते थे
    वो माटी न रही इस शहर में
    दोस्तों ,कहाँ से गुजरेंगे
    कोई कैसे ढूँढेगा ??

    ....वाह! बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. सार्थक उद्गार प्रकट करती सुन्दर क्षणिकाएं।

    उत्तर देंहटाएं