यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 14 मई 2013

मैं कैसे सोऊँ ??

मैं  कैसे सोऊँ ??
नौ माह का अंकुर पूर्ण हुआ 
 व्याकुल जग पंथ निहारता 
जब गर्भ नाल में  हुई पीड़ा  
रक्त माँ- माँ कह पुकारता 
मैं कैसे सोऊँ ?
जब  बिस्तर उसका हुआ गीला 
वो करवट करवट जागता 
मुख ,उँगलियाँ मचलती वक्ष पर 
पय उदधि हिलौरे मारता 
मैं कैसे सोऊँ ?
मैं रोटी का कौर लिए फिरती 
वो नाक चढ़ा चिंघाड़ता 
मैं  कलम किताब दूँ हाथों में  
वो आगे- आगे भागता 
मैं कैसे सोऊँ ?
जब देर सवेर घर में आता 
शंकित मन फन फुफकारता 
वो प्रश्न का उत्तर ना देकर 
 निष्पंद शून्य में ताकता 
मैं कैसे सोऊँ ?
मैं रात दिन उसकी राह तकूँ 
मन उसकी खबर  सिहारता 
 हर वक़्त मुझे है फिकर उसकी 
जब वो सरहद पर जागता 
मैं कैसे सोऊँ ?
जब अंश मेरा हो खतरे  में 
वक़्त खड़ा धिक्कारता 
होकर जख्मी ज्यों अरण्य सिंह  
अस्तित्व मेरा हुंकारता 
मैं  कैसे सोऊँ ??
***********************

12 टिप्‍पणियां:

  1. माँ कि महता को दर्शाती सुन्दर काव्य रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच माँ कहाँ सो पाती है...बहुत सुन्दर प्रभावी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ को अपने संतान की चिंता तो सदैव रहती है
    सुन्दर रचना
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल बुधवार (15-05-2013) के "आपके् लिंक आपके शब्द..." (चर्चा मंच-1245) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. माँ किसी न किसी बहाने जागृत रहती है .
    सुन्दर भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बच्चे की परवरिश में माँ यूं ही जागती रहती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. माँ तो अंतिम समय तक जागती रहती है बच्चे के लिए ... उसका स्नेह स्त्रोत कभी नहीं सूखता ... भावमय अभिव्यक्ति ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. माँ की ममता का कोई मोल नहीं..भावमय सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं कैसे सोऊँ ??
    माँ की ममता का यह रूप भी वंदनीय है ....
    सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं कैसे सोउं. माँ के रूप में तो प्रकृति स्वयं साक्षात अवतरित होती है और प्रकृति भला कैसे सो सकती है उसे तो जनना है, नई सृष्टी को, उसे तो जीवन देना है, वो भला सो कैसे सकती है. बहुत सशक्त रचना.

    उत्तर देंहटाएं