यह ब्लॉग खोजें

बुधवार, 23 अप्रैल 2014

तृषिता (दुर्मिल सवैया)

    


चुपके-चुपके मुखड़ा ढक के कल रात सखी घर से निकली , 

गरजे बदरा धड़का जियरा दमकी घन बीच मुई बिजली||
उतरी नभ से जग के डर से लहकी-लहकी फिरती तितली,
जल बीच रही तृषिता मछली तड़पी रतिया सगरी इकली|


9 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! क्या कहें, क्या ना कहें? बहुत खूबसूरत और अतिसुन्दर विन्यास...
    मेरे ब्लॉग का भ्रमण करें एक बार www.knkayastha.in

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (25.04.2014) को "चल रास्ते बदल लें " (चर्चा अंक-1593)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना !!

    मेरे ब्लॉग की नवीनतम रचना "मै मख्खन बेचता हूँ " को पड़ने के लिए मेरे ब्लॉग manojbijnori12.blogspot.com पर आये और अपने सुझावाओ से हमे मार्गदर्शित करें !!

    उत्तर देंहटाएं


  4. ☆★☆★☆



    उतरी नभ से जग के डर से लहकी-लहकी फिरती तितली,
    वाह ! वाऽह…!
    क्या ख़ूब
    आदरणीया
    सुंदर छंद के लिए साधुवाद

    मंगलकामनाओं सहित...
    -राजेन्द्र स्वर्णकार



    उत्तर देंहटाएं