यह ब्लॉग खोजें

मंगलवार, 31 मई 2011

आदत ये पेंच लड़ाने की

                                                            छोड़ दो आदत पुरानी
                                       पतंगों से पेंच लड़ाने की 
                                      काट के गर्दन किसी की 
                                        कहकहे लगाने की !
                                                   अब समझो न इसको दुर्बल 
                                                   स्वाभिमान और आत्मनिर्भरता  
                                                   बढाते हैं अब इसका मनो बल !
                                           उच्च शिक्षा और ज्ञान से 
                                         बनी है ये डोर नई  जमाने की 
                                         काट न पाओगे इसको 
                                         छोड़ो ये जिद बढ़ाने की ! 
                                                  करो न अब ये भूल 
                                                  न झूठे दंभ के स्तम्भ पर चढ़ते रहो 
                                                 बेहतर है अब नील गगन में 
                                                  इसके संग संग उड़ते रहो !
                                         एक दूजे के संबल हो 
                                        ये बात नहीं भूल जाने  की 
                                         छोड़ दो आदत पुरानी 
                                        पतंगों से पेंच लड़ाने की !!  
                                                              
                                                    

शनिवार, 28 मई 2011

विकसित देश

माननीय डॉ एपीजे अब्दुल कलाम जी की किताब इग्नाइटिड  माइंड ने वास्तव में मेरे मस्तिष्क को झकझोर दिया !उसी से प्रेरित होकर उस पुस्तक के भाव अपनी लेखनी के माध्यम से आप तक पंहुचा रही हूँ 
                         मन में गंगा हाथों तिरंगा 
                                    ये संकल्प दोहराना होगा  
                                   तोड़ निज स्वार्थ के घेरे 
                                   देश को सम्रध बनाना होगा !
                  देश के हर एक बच्चे में  
                  एक उद्देश्य  जगाना होगा 
                 उन्नत देश के स्वपन को 
                 अब साकार बनाना होगा  !
                                  राजनीतिक और आर्थिक क्षेत्र में 
                                  अब परिवर्तन लाना होगा 
                                  देश की सेन्ये और तकनीकी सुरक्षा 
                                 को सुद्रढ़ बनाना होगा !
                जो तरु अब तक परदेश से लाते 
                अब अपने आँगन में लगाना होगा
               संगठित होकर २०२० तक भारत को 
               पूर्ण विकसित देश बनाना होगा !
                                 देश की सोई स्वर्ण चिडिया को 
                                 अपनी मेहनत से जगाना होगा 
                                 तोड़ निज स्वार्थ के घेरे 
                                 देश को सम्रध बनाना होगा !!    

गुरुवार, 26 मई 2011

तुम्हे याद तो होगा

                     जब तोड़ रही थी दम तेरे क़दमों में मेरी वफ़ा 
                   हिज्रेगम से भरी मेरी उन  आँखों की वीरानी तो याद होगी !

                   चट्टानों से सर फोड़ कर जब जा रही थी लहर 
                   उसकी जख्मों से भरी वो पेशानी तो याद होगी !

                   खोल के देख अपने दिल की किताब 
                  किसी बरखे में छुपी मेरी निशानी तो याद होगी !

                   जब दफन किया था मेरे जिस्म को तेरे ही दर के सामने 
                   उस कब्र पे लिखी मेरी कहानी तो याद होगी !!

सोमवार, 23 मई 2011

गरीबी का सूरज

                                    सूखे अधरों पर मुस्कान आँखों में रंगत आई 
                        जब रसोई से आज, धुआं उठता दिया दिखाई !
                        काले पतीले में माँ चमचा आज चलाएगी 
                        मांग के लाई थी  जो चावल 
                         उनसे खीर बनाएगी !
                        भूख से सिकुड़ी आँतों में जब थोड़ी आस बंध आई 
                        लार  टपकाते मरियल कुत्ते ने भी पूँछ हिलाई !
                        सूखेगा आज टपकता छप्पर ,
                        गीला आटा भीगा बिस्तर 
                       देखो देखो सूरज ने अब, काली चादर हटाई 
                       सूखे अधरों पर मुस्कान आँखों में रंगत आई !!
                        
                        

रविवार, 22 मई 2011

मृग तृष्णा

                                                                       मृग तृष्णा में लिप्त 
                                               अनवरत गति से भागते हुए 
                                               जब थक कर चूर होकर 
                                               मायूसी के मरुस्थल में लेट जाती हूँ 
                                                ऊपर खुले आसमां को निहारते हुए 
                                                पूछती हूँ "प्यासी हूँ कंहाँ जाऊ" 
                                            उसने हथेली पे मेरी एक जल की बूँद गिरा दी !                                                                                                       
                                           " अगर तू है तो मैं तुझे सुनना चाहती हूँ "
                                              उसने बादलों की गर्जना सुना दी !                                                                      
                                              मैंने कहा "भूखी हूँ मैं " 
                                             उसने लहलहाती फसल दिखा दी !
                                           मैंने कभी  तुझे देखा ही नहीं  "
                                           उसने दामिनी की चमक दिखा दी !
                                                               
                                            कैसे बनाऊ अपना स्वर्ण महल "
                          उसने चोंच में तिनका लेकर जाती हुई चिडिया  दिखा दी !
                                           "मैं तुझे महसूस करना चाहती हूँ "
                                             उसने एक तितली मेरी बांह पे बिठा दी !
                                            मैंने कहा "अब विश्राम करना चाहती हूँ "
                                           उसने तरु की एक  कोमल पत्ती  बिछा दी !! 
                                                                  
                                                                   
                                                                   
         

गुरुवार, 19 मई 2011

सिंकिंग कान्फिडेंस , आप बीती

 आज मैं अपनी एक हकीकत को या कहिये एक बेवकूफी को पहली बार हास्य रस का पुट देते हुए कविता के माध्यम से आप लोगो से शेयर कर रही हूँ !प्रतिक्रिया जरूर दीजियेगा !

                                वाटर का ऐसा फोबिया  क़ि समुद्र के शांत किनारे 
                                चुल्लू भर पानी में बैठ कर तन मन इस तरह घबराते  
                               क़ि दूसरे मजे लूटने वालों के बच्चे लेकर 
                               बैठने के आफ़र आते!

                               फिर जब उम्र हुई पचास और बन गई नानी 
                               तैराकी विद्या सीखने क़ी मन में ठानी 
                              पति ने भी उत्साही किया ,सोचा  अगर सीख जायेगी 
                              कभी डूबने लगी तो खुद ही बच तो जायेगी !
                              
                              कुछ जल्दी ही फ्री स्टाइल सीख लिया 
                             सोचा चलो किला फतह किया 
                            सीखते हुए जुम्मा जुम्मा हुए थे चार दिन 
                            अपने को समझने लगी स्विम्मिंग कुवीन!

                            छोड़ चार जा पहुंची आठ फीट क़ी गहराई  में 
                            सोचा अब तो सब आता है 
                            कुछ फर्क नहीं गहराई में !

                           फिर अचानक मन में आया ,ओवर कांफिडेंस ने सिर उठाया 
                           फ्री स्टाइल छोड़ बैकफ्लोट करने लगी 
                           खुश इतनी जैसे ऊँचे गगन में उड़ने लगी !

                        वापस आते  हुए जब सात फीट तक पंहुच गई 
                        लगा जैसे नाव भंवर में अटक गई 
                        बालेंस बाडी का ऐसे बिगड़ गया 
                        मानो अचानक कोई कारगो शिप उलट गया !

                       आकार धीरे धीरे  वर्टिकल हुआ
                      और फाईनली एंगल नाइंटी डिग्री हुआ 
                      जैसे ही पाँव ने पूल के  धरातल  को छुआ 
                     सारा कांफिडेंस पल में  उड़नछू हुआ !

                    मोत को रूबरू देख हिम्मत दम तोड़ने लगी 
                   धड़कने बेलगाम घोड़े क़ी तरह दोड़ने लगी  
                    अपनों क़ी पिक्चर मन के थियेटर में दोड़ने लगी!

                   दो तीन बार बाडी सतह पर आई 
                  चारो तरफ नजर दोड़ाई
                  लाइफ गार्ड भी मस्त था 
                 मेरी तरफ से आश्वस्त था !
                 
                फिर एक बात जहन में आई 
                सिखाने वालों क़ी क्यूँ नाक कटाई 
                मैं क्यूँ डूब रही हूँ
                थोडा बहुत तो मुझे आता है 
                ये क्यूँ भूल रही हूँ !

              वाटर फोबिया को जीतना है ध्यान में आया 
              खोया कांफिडेंस वापस आया !
             फिर हुई जोश में पानी से हाथापाई 
             फ्री स्टाइल में ही वापस आई 
            जान बची और लाखो पाई 
           चलो किसी ने नहीं देखा 
          बाहर निकल कर खैर मनाई !

          फिर भी मैंने हार न मानी 
          पानी को पूर्णतः फतह करने क़ी ठानी 
       अब मैं खुद गोते लगाती हूँ 
      धरातल को पैर से नहीं 
     हाथो से छू कर आती हूँ !!

अब कांफिडेंस तो है पर ओवर कांफिडेंस तौबा तौबा !!! 
  
                      
                             
                                                  

मंगलवार, 17 मई 2011

कुछ यादगार लम्हे

                                                           कितना खारा है तू 
                                   फिर भी लहरों का तुझे चूम के आना अच्छा   लगा !

                                      कितनी लम्बी है तेरे वजूद की चादर 
                                      कुछ दूर नंगे पाँव चल के जाना अच्छा लगा !
                                           
                                     कितने बवंडर ,कितने तूफ़ान छुपे है तेरे सीने में 
                                     फिर भी प्यार से ऊँगली फिराना अच्छा लगा !
                                           
                                      डर था मर ना जाऊं  तेरी आगोश में कंही 
                                     फिर भी कुछ लम्हे तुझ में समाना अच्छा लगा !!      

रविवार, 15 मई 2011

तात मैं तेरी सोन चिरैया

जब भी मैं दहेज़ प्रताड़ित लड़की की व्यथा सुनती हूँ तो मन विचलित हो उठता है !और लड़की पराया धन जैसी कहावत सुनकर तो विद्रोह पर उतारू हो जाता है !मेरी ऐसी ही मनो स्तिथि थी जब यह कविता लिखी !  

                                                अन्तः उर में छाई उदासी 
                                            हार सिंगार क्यूं हो गया बासी 
                                        सुर्ख परिधान लगे स्याह सरीखा 
                                         मेहंदी का रंग पड़ गया फीखा  !
                                       
                                       तात मैं तेरी सोन चिरैया 
                                      पल पल तरसूँ तेरी छैया 
                                   जिस कर में कन्या दान दिया 
                                  जीवन भर का सम्मान दिया                     
                                     
                          उसने ही सात वचनों का मखौल किया 
                                धन के तराजू में तोल दिया 
                               क्षण भर में सब स्वप्न डुबोए
                                  अश्रुओं से नयन भिगोए   !  

                               तेरी लाडली भूखी सोती 
                             याद आये तेरी सूखी रोटी 
                         झूठे बंधन झूठी कसमें 
                        विवाह के नाम पर 
                        खोखली रस्में !

                       तात कठिन है ये सब सहना 
                      बेटी पराया धन होती है, 
                     तुझे मेरी कसम अब ये मत कहना 
                     अब ये मत कहना !!           

शुक्रवार, 13 मई 2011

ज़माने की ठोकर ने चलना सिखाया

निष्ठुर हाथों ने बचपन छुड़ाया
ज़माने की ठोकर ने चलना सिखाया !

अभी खिसकना सीखा था 
वक़्त ने कैसे खड़ा किया 
कुछ कठोर सच्चाई ने 
कुछ प्राकर्तिक गहराई ने 
कुछ पिघलते भावों ने 
कुछ सिसकते घावों ने 
कुछ टूटती कसमों ने 
कुछ खोखली रस्मों ने 
कुछ बेमानी बातों ने 
कुछ अपनों की घातों ने 
कुछ समाज की गहरी चालों ने 
कुछ दोगली फितरत वालों ने 
समय से पहले बड़ा किया 
अभी खिसकना सीखा था 
वक़्त ने कैसे खड़ा किया !!

बुधवार, 11 मई 2011

जमाने की ठोकर ने चलना सिखाया

निष्ठुर हाथों ने बचपन छुड़ाया
जमाने की ठोकर ने चलना सिखाया !

अभी खिसकना सीखा था 
वक़्त ने कैसे बड़ा किया 
कुछ कठोर सच्चाई ने 
कुछ प्राकर्तिक गहराई ने 
कुछ पिघलते भावों ने 
कुछ सिसकते घावों ने 
कुछ टूटती कसमों ने 
कुछ खोखली रस्मों ने 
कुछ बेमानी बातों ने 
कुछ अपनों की घातों ने 
कुछ संमाज की दोहरी चालों ने 
कुछ दोगली फितरत वालों ने 
समय से पहले बड़ा किया 
अभी खिसकना सीखा था 
वक़्त ने कैसे खड़ा किया!! 

गुरुवार, 5 मई 2011

माँ कैसे कर्ज चुकाऊँ..happy mothers day may 8 2011

                                      माँ कैसे कर्ज चुकाऊँ 
                                    दूध तेरा मेरी रग रग में
                                          कैसे भूल जाऊं !
                    तेरी व्याधि हर ल़ू मै या जीवन औषधि बन जाऊं 
                                      मैं कैसे कर्ज चुकाऊँ !!
                    सूख रही हैं जड़े तरु की जिसका म्रदुल फल हूँ मैं 
               नीर भरी बदरी बन बरसूं या जमीं की सिंचन बन जाऊं !
                                     आग उगलते सूरज को 
                                        कैसे ज्योत दिखाऊँ 
                                       माँ कैसे कर्ज चुकाऊँ!!
              कतरा कतरा घटता बदन तेरा ,निस्तेज होता वदन तेरा
                                  जीर्ण शीर्ण अस्थि पिंजर में 
                                         प्राण कंहा से लाऊँ 
                                     माँ कैसे कर्ज चुकाऊँ !!
                           सूरज जो उदय हुआ ,अस्त भी होना है 
                             पाया जीवन में जो, कभी तो खोना है  
                                इस आवागमन के कटु जहर को 
                                          कैसे आज पचाऊँ
                                   तेरे जीवन का अंतिम तीरथ 
                                          कैसे सहज बनाऊं 
                                       माँ कैसे कर्ज चुकाऊँ !!
यह कविता मेरी माँ को समर्पित करती हूँ ,जो इस वक़्त ब्रेन ट्यूमर से जूझ रही है !!


मंगलवार, 3 मई 2011

सोमवार, 2 मई 2011

हमारी शादी की चोंतीस्वी वर्ष गांठ

शुभ प्रभात के साथ हमारे ओफ्फिसर्स क्लब की ओर से भेजे गए  फूलों से शुभ दिन की शुरुआत हुई !


हर राह में हर मोड़ पर कदम मिला कर चल दिए 
जीवन मुक्तक के चोंतीस मोती आज बिछा कर  चल दिए !!